Blog single photo

वेब पोर्टल के जरिए चोरी हुए फोन का चल जाएगा पता, सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

अगर आपका मोबाइल फोन खो गया है या फिर चोरी हो गया है, तो उसे ढूंढने में सरकार आपकी मदद करेगी। कम्युनिकेशन्स मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने शुक्रवार को मुंबई में एक वेब पोर्टल की शुरुआत की

smartphone

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(17 सितंबर): आपका मोबाइल कहीं रह जाता है या फिर गायब हो  जाता है तो उसके लिए अब परेशान होने की जरुरत नहीं है, क्योंकि सरकार आपकी मदद करने तैयार है। कम्युनिकेशन्स मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने शुक्रवार को मुंबई में एक वेब पोर्टल की शुरुआत की, जो यूजर्स को उनके चोरी हुए या खोए हुए मोबाइल फोन का पता लगाने में मदद करेगा। इसके लिए टेलिकम्युनिकेशन्स डिपार्टमेंट (दूरसंचार विभाग) ने सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्टर (CEIR) नाम से प्रोजेक्ट शुरू किया है। इस प्रोजेक्ट को खोए या चोरी हुए फोन को सभी मोबाइल नेटवर्क पर ब्लॉक करने, चोरी को हतोत्साहित करने और ऐसे फोन का पता लगाने के उद्देश्य से शुरू किया गया है।सभी मोबाइल में उनकी पहचान के लिए एक यूनीक IMEI नंबर होता है। यह नंबर रिप्रोग्रामेबल (बदलाव किए जा सकता है) होता है, जिसकी वजह से चोरी करने वाले जालसाज इसे रिप्रोग्राम कर देते हैं। इसके चलते IMEI की क्लोनिंग हो जाती है और एक ही IMEI नंबर पर कई फोन इस्तेमाल कर लिए जाते हैं। टेलिकम्युनिकेशन्स डिपार्टमेंट के मुताबिक, आज की तारीख में क्लोन/डुप्लिकेट IMEI हैंडसेट के कई मामले हैं।

अगर ऐसे आईएमईआई नंबर ब्लॉक कर दिए जाएं, तो जिनका मोबाइल चोरी हुआ है, उन्हें परेशान होना पड़ेगा। इस वजह से डुप्लिकेट और फेक आईएमईआई वाले फोन से छुटकारा पाने की जरूरत है। इसी समस्या के लिए CEIR वेबसाइट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। इसके अलावा इससे सिक्यॉरिटी, चोरी और अन्य समस्याओं में भी मदद मिलेगी।

CEIR प्रोजेक्ट के मुख्य मकसद

- मोबाइल फोन चोरी को हतोत्साहित करने के लिए खोए या चोरी हुए फोन को सभी मोबाइल नेटवर्क पर ब्लॉक करना।

- खोए या चोरी हुए मोबाइल फोन का पता लगाने की सुविधा।

- नेटवर्क में डुप्लिकेट और नकली IMEI वाले मोबाइल पर रोक।

- चोरी हुए मोबाइल के यूज पर रोक लगाना।

- चोरी हुए मोबाइल के यूज पर कंट्रोल के साथ यूजर्स के स्वास्थ्य से जुड़े जोखिम को कम करना।

- चोरी हुए मोबाइल के यूज में कमी लाने के साथ क्वॉलिटी ऑफ सर्विस बेहतर बनाना और कॉल ड्रॉप कम करना।कैसे करें कंप्लेंट?

अगर आपका मोबाइल फोन खो गया या चोरी हो गया है, तो सबसे पहले पुलिस थाने में उसकी एफआई दर्ज करानी होगी। इसके बाद हेल्पलाइन नंबर 14422 पर कॉल करके टेलिकम्युनिकेशन्स डिपार्टमेंट को इसकी जानकारी दें। वेरिफिकेशन करने के बाद डिपार्टमेंट फोन को ब्लैकलिस्ट कर देगा, जिससे आपके खोए या चोरी हुए फोन का आगे इस्तेमाल नहीं हो पाएगा। इसके अलावा अगर कोई दूसरा सिम लगाकर मोबाइल का इस्तेमाल करने की कोशिश करता है, तो सर्विस प्रोवाइडर नए यूजर की पहचान करेगा और पुलिस को सूचित करेगा। फिलहाल यह सुविधा पायलट प्रोजेक्टर के तौर पर महाराष्ट्र में शुरू की जा रही है।

Tags :

NEXT STORY
Top