चांद पर तिरंगा फहराएगा यह स्टार्टअप, ISRO के साथ साइन किया कॉन्ट्रैक्ट

नई दिल्ली (2 दिसंबर): भारत की एक प्राइवेट स्पेस टेक्नॉलजी कंपनी टीमइंडस ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के साथ एक बड़ा कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है. इसके तरह टीणइंडस अंतरिक्ष के क्षेत्र में बड़ा कदम करने की तैयारी में है। टीमइंडस ने ISRO के साथ मिलकर चांद पर स्पेसक्राफ्ट उतारना चाहती है। इस इस मिशन में टीमइंडस कामयाब हो जाता है तो ये चांद पर अपना स्पेसक्राफ्ट भेजने वाली पहली निजी कंपनी बन जाएगी।

लूनर एक्सप्राइज के तहत चांद की सतह पर अंतरिक्ष यान उतारने, 500 मीटर तक चलाने और फोटो, विडियो पृथ्वी पर वापस भेजने के लिए लगभग 204 करोड़ रुपए की फंडिंग मिलेगी। साथ ही यह कंपनी गणतंत्र दिवस 2018 के दिन चांद पर तिरंगा फहराना चाहती है।

टीमइंडस के मुताबिक इस प्रॉजेक्ट पर वह 2011 से काम कर रहे हैं। टीमइंडस PSLV के जरिए चांद पर अपना अंतरिक्ष यान दिसंबर 2017 में भेजने की तैयारी कर रहा है। टीमइंडस के फ्लीट कमांडर राहुल नारायण का कहना है कि इस मिशन भारत को ऐसे देशों के क्लब में शामिल कर देगा जिनकी चांद पर लैंड करने की तकनीक प्रमाणित है। साथ ही यह स्पेस को और अच्छे से जानने के नए रास्ते खोल देगा।

इसरो के चेयरमैन एएस किरण कुमार भी इस कॉन्ट्रैक्ट को लेकर खासा उत्साहि नजर आ रहे हैं। इसरो चेयरमैन के मुताबिक 'हम देखना चाहते हैं कि भारत के ज्ञान का प्रयोग दुनिया के लिए किया जा सकता है।' टीमइंडस में इन्वेस्ट करने वालों में रतन टाटा, नंदन निलकेणी, सचिन बंसल और बिन्नी बंसल समेत कई बड़े नाम शामिल हैं। टीमइंडस के स्पेसक्राफ्ट को बेंगलुरु में 100 लोगों की इंजिनियरिंग टीम द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है।

28 दिसंबर 2017 को लॉन्च की उलटी गिनती शुरू हो जाएगी। पीएसएलवी से पृथ्वी की ऑरबिट में स्पेसक्राफ्ट को इंजेक्ट किया जाएगा। जिसके बाद 21 दिनों के सफर के बाद स्पेसक्राफ्ट चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंड करेगा।