अंगरेजों के सामने टीम इंडिया की सधी हुई शुरुआत

चेन्नई (17 दिसंबर): चेन्नई टेस्ट में दूसरे दिन का खेल खत्म हो गया है। इंग्लैंड ने पहली पारी में 477 रन बनाए जिसके जवाब में टीम इंडिया बिना विकेट खोए 60 रन बना लिए हैं। केएल राहुल जहां 30 रन बनाकर नाबाद हैं, वही पार्थिव पटेल 28 पर नॉट आउट हैं।

चेन्नई में पकड़ मजबूत करने के लिए विराट को हर हाल में कम से कम डेढ़ सौ की लीड हासिल करनी होगी। डेढ़ सौ की लीड लेने के लिए टीम इंडिया को कल तीसरे दिन और फिर चौथे दिन लंच तक बल्लेबाजी करनी होगी। अगर विराट कोहली के साथ बाकी बल्लेबाज ये कमाल कर पाते हैं तो फिर बाकी बचे डेढ़ दिन में इंग्लैंड पर प्रेशर बनाया जा सकता है।

जैसे की टीम इंडिया ने मुंबई टेस्ट में किया था और मैच पांचवें दिन लंच से पहले ही खत्म हो गया था। क्योंकि विराट के दोहरे शतक की बदौलत टीम इंडिया ने 231 रनों की बड़ी बढ़त हासिल की थी और इंग्लैंड की टीम चदूसरी पारी में सिर्फ 195 रनों पर ढेर हो गई थी।

वैसे भी चेन्नई के इस मैदान पर 2008 का टेस्ट मैच काफी रोमांचक रहा था। जहां इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया ने 387 रनों का बड़ा लक्ष्य हासिल कर पांचवें दिन जीत दर्ज की थी जबकि पहली पारी के आधार पर टीम इंडिया 75 रन से पीछे थी, लेकिन दूसरी पारी में सचिन के 103 रन, युवराज के नाबाद 85 रन और सहवाग के ताबड़तोड़ 83 रनों की बदौलत ये जीत हासिल हुई थी।

अब विराट कोहली के सामने वही 8 साल पहले वाला चैलेंज हैं। वैसे भी विराट कोहली की नजर इंग्लैंड के खिलाफ हर हाल में 4-0 की जीत पर टिकी हुई है। विराट अपनी जिद से जीतना जानते हैं और विराट से हर किसी को वही जीत वाली जिद की उम्मीद है, क्योंकि ये बदले की सीरीज है, जहां ड्रॉ नहीं हर हाल में हर हिंदुस्तानी को जीत चाहिए।