दिग्गजों ने की नेहरा की तारीफ, बताया टीम इंडिया के लिए एसेट

नई दिल्ली(4 फरवरी): इंग्लैंड के खिलाफ हाल ही में खत्म हुई टी-20 सीरीज में तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने शानदार गेंदबाजी की। नेहरा के प्रदर्शन पर दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों ने तारीफ की है। स्पिनर हरभजन सिंह ने कहा है कि नेहरा के पास कई स्किल्स हैं और वो टीम के लिए एसेट हैं। इन प्लेयर्स का मानना है कि आशीष जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार जैसे यंग प्लेयर्स के लिए मेंटर का रोल प्ले कर रहे हैं।

- हरभजन कहते हैं, “नेहरा की स्किल्स उन्हें खास बनाती हैं। वो ये बेहतर तरीके से जानते हैं कि अपनी बॉडी से कब और किस हद तक काम लेना है।”

- “जैसे विराट जानते हैं कि बॉलर कहां बॉलिंग करेगा और उसी हिसाब से वो खुद को तैयार करते हैं। नेहरा भी जानते हैं कि बैट्समेन कहां शॉट खेल सकता है, और वो उसी से निपटने की लैंथ रखते हैं और इसी लिहाज से फील्ड सेट करते हैं।”

- “38 साल की उम्र में भी वो 140 kmph की रफ्तार से बॉलिंग कर रहे हैं। इसकी वजह उनका बोन स्ट्रक्चर है। अगर वो बंदा आपके ऊपर बैठ जाए तो आप उठ नहीं सकते। टीम इंडिया में आज भी वो सबसे तेज दौड़ने वाले प्लेयर्स में शामिल हैं।”

- “जहीर भी कम स्किल्ड नहीं थे लेकिन उन्होंने पेस कम कर दी और टेस्ट क्रिकेट ज्यादा खेला। अगर आशु (हरभजन नेहरा को इसी नाम से बुलाते हैं) की बॉडी साथ देती तो वह टेस्ट क्रिकेट में भी बेहद कामयाब बॉलर होते।”

भरत अरुण

- टीम इंडिया के पूर्व बॉलिंग कोच भरत अरुण भी नेहरा के फैन हैं। अरुण के मुताबिक, “नेहरा दो तरह के बाउंसर्स डाल सकते हैं। और दोनों बिल्कुल अलग तरह के होते हैं। उनके पास बेहतरीन गुड लैंथ और यॉर्कर भी हैं। टी20 क्रिकेट में फ्लैट बॉलिंग कैसे करनी है? ये उनसे बेहतर कौन जानेगा?”

- “वो आज भी 125 की नहीं 140 की रफ्तार से बॉलिंग करते हैं। उन्होंने मालूम है कि टी20 में अपने स्पैल की 24 बॉल्स कैसे करनी हैं?”

विजय दाहिया

- नेहरा और दाहिया दिल्ली के लिए साथ खेले हैं। दाहिया कहते हैं, “वो अब कम खेलता है और खुद को फिट रखता है। वो टेस्ट और रणजी दोनों नहीं खेलता। उसे मालूम है कि लिमिटेड ओवर क्रिकेट उसके लिए बेस्ट है।”

मदन लाल

- 1983 वर्ल्ड कप विनर टीम का हिस्सा रहे मदन लाल कहते हैं, “पूर्व कोच और सिलेक्टर के तौर पर मैं कह सकता हूं कि आशीष कभी परफॉर्मेंस की वजह से नहीं बल्कि चोटों की वजह से बाहर रहा। बुमराह जैसे नए लड़कों के लिए तो वो एसेट है। हो सकता है वो चैंपियंस ट्राॅफी में भी खेले।”

- “अगर वो इंग्लैंड में खेलता है तो मानकर चलिए कि टीम इंडिया के लिए बेहतरीन परफॉर्मेंस देगा। वहां की कंडीशंस में उसे फेस करना बहुत मुश्किल है।”