'नहीं रहे तारक मेहता' का ऊंधा चश्मा के लेखक'

नई दिल्ली (2 मार्च):  जाने-माने हास्य लेखक तारक मेहता का बुधवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वे 87 वर्ष के थे। उनकी इच्छा के अनुसार उनका देह दान शहर स्थित वीएस अस्पताल में कर दिया गया। वर्ष 2015 में पद्मश्री से सम्मानित मेहता के निधन पर साहित्य के क्षेत्र में शोक व व्याप्त है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित कई नेताओं ने मेहता के निधन पर शोक व्यक्त किया। मोदी ने ट्वीट कर कहा कि उनकी लेखन शैली ऐसी थी जिसमें देश की विविधता में भी एकता की झलक दिखती थी। 26 दिसम्बर 1929 को अहमदाबाद में जन्मे मेहता के लिखे उपन्यास दुनिया ने ऊंधा चश्मा पर लोकप्रिय धारावाहिक तारक मेहता का उल्टा चश्मा बना है।