''शशिकला के डर से जयललिता की सेहत के बारे में झूठ बोला''

नई दिल्ली ( 24 सितंबर ): तमिलनाडु के वन मंत्री सी. श्रीनिवासन ने दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता की बीमारी पर सही जानकारी नहीं देने के लिए जनता से माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जब अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं तब उनके स्वास्थ्य के बारे में झूठ बोला गया था। वन मंत्री शुक्रवार की रात चेन्नई से 500 किलोमीटर दूर मदुरै में एक आमसभा को संबोधित कर रहे थे। बीमार होने के बाद जयललिता पिछले वर्ष 22 सितंबर से अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं।

श्रीनिवासन ने कहा, 'हमने झूठ बोला था कि अम्मा ने (जयललिता) इडली, सांबर, चटनी खाई है और चाय भी पी रही हैं। सच तो यही था कि किसी ने उन्हें इडली खाते और चाय पीते नहीं देखा था। आपको भरोसा दिलाने के लिए कही गई सभी बातें झूठी थीं।'

वन मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही अस्पताल में कई नेताओं के साथ उनकी मुलाकात और उनके स्वास्थ्य में सुधार होने की दी गई जानकारी भी झूठी थी। उन्होंने दावा किया कि सभी को उस समय शशिकला का डर सता रहा था।

उन्होंने कहा, 'यह बहुत आम है कि जो बहन घर के भीतर झगड़ा करती है वह दोस्त बनकर सामने आती है। हम पार्टी की गोपनीयता भंग नहीं होने देना चाहते थे। इसीलिए झूठ बोल रहे थे।'

पार्टी से दरकिनार किए गए नेता टीटीवी दिनाकरण के बयान का श्रीनिवासन ने उल्लेख किया। दिनाकरण ने कहा है कि उनके पास जयललिता का गलत इलाज होने का प्रमाण है।