तूफान ने उजाड़ा घर, बेटे को 10 हजार में बेचने को मजबूर हुआ परिवार

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (29 दिसंबर): पिछले महीने तमिलनाडु में आए तूफान ने कई लोगों को सड़क पर ला खड़ा किया। कुछ ऐसे भी लोग थे जो एक-एक रुपये को मोहताज हो गए। ऐसे ही एक परिवार का दर्द इन दिनों मीडिया की सुर्खियां बना हुआ है। यहां पर दिहाड़ी मजदूरी का काम करने वाले एक परिवार ने कुछ पैसों के लिए बेटे का ही मोल लगा दिया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक परिवार ने अपने 12 वर्षीय बेटे को 10 हजार रुपये के बदले बंधुआ मजदूर बना दिया और बेच दिया। तूफान में इस परिवार का घर और सारा सामान बर्बाद हो गया था। हालांकि जब चाइल्डलाइन अधिकारियों को जब इस बारे में पता चला तो उन्होंने पन्ननगुड़ी स्थित एक खेत से इस बच्चे को 22 दिसंबर को बरामद किया। यह बच्चा यहां करीब 15 दिनों से मजदूरी कर रहा था।

बच्चे के परिजनों ने अधिकारियों को बताया कि उन्होंने गरीबी के चलते अपने बच्चे को बी. चंदरू नाम के शख्स के खेतों में काम करने के लिए भेजा था। चंदरू ने इन्हें बच्चे के बदले 10 हजार रुपये दिए थे। रेस्क्यू करने के बाद बच्चे को नागप्पट्टिनम के सब कलेक्टर ए के कमल किशोर के ऑफिस लाया गया और वहां से चिल्ड्रन होम भेज दिया गया। पुलिस ने बच्चे को खरीदने वाले शख्स चंदरू के खिलाफ बंधुआ मजदूरी (उन्मूलन), 1976 ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया है।