अबू धाबी से भारत लौटा तमिलनाडु का युवक, 2 साल से था कोमा में

नई दिल्ली(19 जुलाई): दो साल पहले जून 2015 में दुर्घटना का शिकार हुए नामाकला के रहने वाले चिथीरावेल विनायतार्थ उदय्यर  
अबू धाबी से भारत लौट आए हैं। उदय्यर को भारतीय दूतावास के हस्तक्षेप के बाद लाया गया। बता दे दुर्घटना के बाद से ही वह कोमा में हैं।

- उदय्यर के परिवार को दुर्घटना के बदले मुआवजा भी मिला।

- दरअसल, भारतीय दूतावास ने उदय्यर के परिवार से इंश्योरेंस कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कराने को कहा। इंश्योरेंस कंपनी उदय्यर के परिवार को मुआवजा देने से बचना चाह रही थी। केस दर्ज होने के बाद अदालत ने परिवार के पक्ष में फैसला सुनाया। 

- युवक की बहन ने बताया कि गल्फ में ऐसे कई मामले हैं, लेकिन ज्यादातर मामलों में पीड़ितों के हाथ कुछ नहीं लगता। उन्हें अपने देश खाली हाथ लौटना पड़ता है। 

- उन्होंने बताया कि अबू धाबी कोर्ट ने उनके केस में साहनुभूति जाहिर की और इंशोरेंस कंपनी पर आदेश जारी किया कि वह हमारा मुआवजा जल्द से जल्द दे। 

- वहीं उदय्यर की पत्नी का कहना है कि हमने उन्हें सेलम में प्राइवेट अस्पताल में मंगलवार को भर्ती कराया। उन्होंने बताया कि उदय्यर की कंपनी अस्पताल का पूरा खर्च उठा रही है। कंपनी ने उदय्यर को छुट्टी दे रखी है और हर महीने उनकी सैलरी अकाउंट में भेज देती है।