लाखों लोगों के खून से लाल धरती पर माओ की मूर्ति

नई दिल्ली (6जनवरी): सरदार बल्लभ भाई पटेल की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाने का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना जब पूरा होगा तब होगा लेकिन चीन के राष्ट्रपति शी जिन पिंग के हीरो माओ की 37 मीटर ऊंची प्रतिमा बनकर लगभग तैयार हो चुकी है। सरदार पटेल की प्रतिमा बडोदरा में नर्मदा डाम से लगभग तीन किलोमीटर दूर बनायी जायेगी, जबकि माओँ की प्रतिमा हेनान प्रांत के तोंग शू में लगभग तैयार हो चुकी है। हालांकि यह कहा जाता है कि यह जगह लाखों लोगों के खून से रंगी हुई है।

माओ की यह प्रतिमा अभी बन रही है, लेकिन जब  यह प्रतिमा पूरी हो जायेगी तो माओ विशाल कुर्सी पर बैठे मुसकुराते हुए  नजर आयेंगे। इस मूर्ति को बनाने में स्टील और कंक्रीट का इस्तेमाल किया जा रहा है। आईए डालते हैं एक नजर दुनिया कुछ ऐसी और भी ऊंची प्रतिमाओं परः-

1- लूशान (चीन) स्प्रिंग बुद्धा टेंपल 153 मीटर

2- लायकयुन सेतकार (म्यांमार)  130 मीटर

3- उशीकु दायवत्सु (जापान ) 120 मीटर

4- ग्वानयिन सानया (चीन) 108 मीटर

5- झेंगझाउ हेनान (चीन) 106 मीटर