क्रूरता की हद : तालिबान ने ज़िंदा शख्स की ही उधेड़ दी खाल

नई दिल्ली (13 जून) :  अफगानिस्तान के सुदूर इलाके में तालिबान की ऐसी बर्बरता का मामला सामने आया है जिसे जानकर किसी की भी रूह कांप उठे। अफगानिस्तान के गोर प्रांत में एक शख्स को नृशंस तरीके से मौत के घाट उतार दिया गया। फज़ल अहमद नाम के शख्स को ये सज़ा इसलिए दी गई क्योंकि उसके दूर के एक रिश्तेदार पर तालिबान के एक पूर्व कमांडर की हत्या का शक था।

'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट में गोर प्रांत के स्थानीय अधिकारियों के हवाले से कहा गया है कि 21 वर्षीय फजल अहमद को पहले घर से घसीट कर बाहर निकाला गया। फिर उसकी आंखें निकाल दी गई। दिसंबर में हुई इस जघन्य हत्या का खुलासा अब किया गया है।

फज़ल अहमद अभी ज़िंदा ही था और दर्द से चिल्ला रहा था कि आतंकियों ने उसकी छाती की खाल उधेड़ दी। ये सब इतना वीभत्स था कि फज़ल का दिल तक दिखने लगा था। इसके बाद फज़ल को एक ऊंची चट्टान से नीचे फेंक दिया गया।

क्षेत्र से सांसद रूकिया नाईल ने कहा कि उन्होंने ज़िंदा ही उसकी खाल उधेड़ दी। अफगानिस्तान में पिछले 15 साल से चल रही हिंसा ने अब खहालांकि तालिबान ने इस जघन्य हत्या में अपना हाथ होने से इनकार किया है।