ताजिकिस्तान के आजीवन राष्ट्रपति रहेंगे राखमोन, जनमत संग्रह से हुआ फैसला

नई दिल्ली (23 मई): ताजिकिस्तान की जनता ने राष्ट्रपति इमोमाली राखमोन को संविधान में संशोधन करने और आजीवन शासन करने के पक्ष में मतदान किया है। इमोमाली इस समय 62 साल के हैं और 1992 से ताजिकस्तान पर शासन कर रहे हैं। पिछले 24 साल शासन में वो हमेशा अपने विरोधियों पर भारी पड़ते रहे हैं। अब मौजूदा जनमत संग्रह से साबित हो गया है कि राखमोन ही देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं।

ताजिकिस्तान के निर्वाचन अधिकारी के अनुसार देश 88 फीसदी मतदाताओं ने मतदान अवधि खत्म होने से दो घण्टे पहले ही अपने वोट डाल दिये थे। राखमोन के खिलाफ टेररिस्ट ग्रुप करार दी जा चुकी 'द इस्लामिक रिवाइवल पार्टी ऑफ ताजिकिस्तान'ने सिर उठाने की कोशिश की थी, लेकिन लोगों ने उसे कोई तबज्जोह नहीं दी। पिछले साल सितम्बर में इस ग्रुप ने सरकार के खिलाफ विद्रोह की नाकाम कोशिश की थी।

हालांकि कुछ लोगों का यह भी आरोप है कि लोग राखमोन के खिलाफ भय के कारण खुल कर नहीं बोल पाते। लोगों ने यह भी कहा कि ये जनमत संविधान के 41 संशोधनों के लिए था, लेकिन मतपत्र में किसी भी एक के बारे में जिक्र नहीं था।