ताइवान स्ट्रेट में घुसी चीनी नेवी, बिगड़े हालात

नई दिल्ली (11 जनवरी): ताइवान के राष्ट्रपति साई इंग वेन के अमेरिका के दौरा करने पर चीन को मिर्ची लगी हैं। इस बार उसने फिर सीमाओं को लांघते हुए अपने एक विमान वाहक जहाज को ताइवान स्ट्रेट में प्रवेश कराया। द्वीप के रक्षा मंत्रालय ने यह जानकारी दी।

मंत्रालय के मुताबिक, चीनी विमान वाहक लायोनिंग ताईवान के जलक्षेत्र में तो नहीं घुसा, लेकिन उस इलाके में प्रवेश कर गया जो यहां के वायु रक्षा जोन के तहत आता है। चीन की इस कार्रवाई को उसके शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देखा जा रहा है। ताइवान मीडिया के मुताबिक द्वीप की सेना ने चीन के विमान वाहक पर नजर रखने के लिए एफ-16 लड़ाकू जेट और अन्य विमान भेजे।

रक्षा मंत्रालय ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘सेना पूरी स्थिति पर नजर रखे हुए है और जरूरत पड़ने पर कोई कदम उठाएगी। हम ताइवान के लोगों से अनुरोध करते हैं कि वे परेशान ना हों।’ दरअसल बीजिंग के विरोध के बावजूद ताइवान के राष्ट्रपति साई इंग वेन अमेरिका के दौरे पर गए थे। चीन ताइवान को अपना ही हिस्सा मानता है और उस पर कब्जा जमाना चाहता है।

साई और डोनाल्ड ट्रंप के बीच पिछले महीने हुई बातचीत से सुलगे चीन ने द्वीप के नजदीक सैन्य गतिविधियां बढ़ा दी। अमेरिका और ताइवान के बीच आधिकारिक संबंध नहीं हैं, लेकिन अमेरिका ताइवान का सबसे शक्तिशाली सहयोगी और हथियारों का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है।