अब सीरियाई अस्पताल सोलर लाइट से बचाएंगे लोगों की जिंदगी

नई दिल्ली ( 31 मई ): सीरिया में विद्रोहियों ने जिन-जिन इलाकों में कब्जा किया है उन इलाके में बिजली की भारी किल्लत का लोगों को सामना करना पड़ता है। हवाई हमले की वजह से बिजली की आपूर्ति सही से नहीं हो पाती है। बिजली के लिए जेनरेटर्स का सहारा लिया जाता है, जिसमें इस्तेमाल होने वाला ईंधन काफी महंगा होता है और वह भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होता है। इससे उत्तरी सीरिया के अस्पतालों में मरीजों का इलाज प्रभावित होता है। इस समस्या से निपटने के लिए अब एक अस्पताल ने सोलर लाइट्स की मदद ली है।


चैरिटी संस्थान यूनियन ऑफ मेडिकल केयर और रिलीफ ऑर्गनाइजेशन (यूओएसएसएम) ने अस्पतालों में बिजली आपूर्ति के लिए अपना नया सोलर प्रॉजेक्ट लॉन्च किया है। यूओएसएसएम ने दिसंबर के बाद से अब तक विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाको में एक बड़े अस्पताल में 480 सोलर पैनल्स स्थापित किए हैं। चैरिटी संस्था ने इस भय से अस्पताल का लोकेशन नहीं बताया है कि कहीं इसे निशाना बनाकर बमबारी न की जाए।


यूओएसएसएम के सीरिया सोलर प्रॉजेक्ट का निर्देशन करने वाले तारिक मकदिसी ने बताया, 'हमारा लक्ष्य ऐसा सोलर एनर्जी सिस्टम लगाना था जिससे सीरिया के इमर्जेंसी अस्पतालों को साफ, भरोसेमंद और सस्ती बिजली मुहैया हो सके।' मकदिसी ने कहा कि इन अस्पतालों में अब बिजली संकट के कारण किसी मरीज को नुकसान नहीं पहुंचेगा।