मुस्लिम छात्रों ने लेडी टीचर से हाथ नहीं मिलाया, परिवार का सिटिजनशिप प्रोसेस सस्पेंड

नई दिल्ली (20 अप्रैल): स्विट्जरलैंड में बीते दिनों एक ऐसा मामला सामने आया था, जिसमें दो नाबालिग मुस्लिम भाइयों ने अपनी महिला टीचर से हाथ मिलाने से मना कर दिया था। अब खबर है कि इनके परिवार की नागरिकता की प्रक्रिया को सस्पेंड कर दिया गया है।

'डीएनए' की रिपोर्ट के मुताबिक, टीनएज भाइयों ने शिक्षा अधिकारियों को बताया था कि ऐसी महिला जो उनकी रिश्तेदार नहीं लगती, उससे शारीरिक स्पर्श करना उनकी आस्था के खिलाफ है।

इसके बाद उन्हें टीचर से हाथ ना मिलाने की छूट दी गई थी। उन्हें निर्देश दिए गए थे कि वे लैंगिक भेदभाव से बचने के लिए पुरुष टीचर्स से हाथ मिलाएं। इस घटना की खबर फैलने के बाद देश भर में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर एक बहस छिड़ गई थी। स्विस राजनेता सिमोनेता सोमारुगा ने कहा था कि "हाथ मिलाना हमारे स्विस कल्चर का एक हिस्सा है।"

अधिकारियों ने मंगलवार को पुष्टि की कि परिवार की नेचरलाइजेशन प्रोसेस को रोक दिया गया है। नागरिकता को सस्पेंड करना अथॉरिटीज़ की एक आम प्रक्रिया है। जिसका इस्तेमाल वे तब करते हैं  जबकि संबंधित परिवारों के बारे में अतिरिक्त सूचनाएं जरूर होती हैं। इन दोनों लड़कों के पिता की राष्ट्रीयता सीरियाई है। जिसे 2001 में स्विटजरलैंड में शरण दी गई थी। 80 लाख के देश में करीब 50,000 मुस्लिम रहते हैं।