IS के चंगुल से इस टीनएज लड़की को दूसरी बार बचाया गया

नई दिल्ली (24 फरवरी): कुर्दिश स्पेशल फोर्सेस ने दूसरी बार एक16 वर्षीय स्वीडिश लड़की को बचाया है। इस लड़की को आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का एक आतंकी फंसाकर मोसुल ले गया था। इराकी कुर्दिस्तान के अधिकारियों ने पुष्टि की है कि लड़की को सफलतापूर्वक आईएस के चंगुल से 17 फरवरी को बचा लिया गया है।

'इंटरनेशनल बिज़नेस टाइम्स' की रिपोर्ट के मुताबिक, कुर्दिस्तान रीजनल सिक्योरिटी काउंसिल ने एक बयान में बताया, "16 वर्षीय मार्लिन स्टिवैनी निवार्लेन स्वीडन के बोरास की रहने वाली है। उसे स्वीडन में आईएस के सदस्य ने सीरिया और बाद में मोसुल जाने के लिए भटका दिया था।" 

मार्लिन इस समय इराकी कुर्दिस्तान में हैं। उसे वापस घर भेजने के इंतजामात किए जा रहे हैं। स्वीडन मीडिया के मुताबिक, यह दूसरी बार है जब मार्लिन को आईएस के चंगुल से इराक में बचाया गया है। इससे पहले अक्टूबर में कुर्दिश फोर्सेस ने एक ऑपरेशन में उसे बचाया था। उस समय वह प्रैग्नेंट थी, मोसुल वापस आकर उसने बच्चे को जन्म दिया था। 

इस बच्चे का पिता वही 19 वर्षीय लड़का माना जा रहा है, जिसके साथ वह सीरिया गई थी। इसके बाद आईएस में शामिल होने के लिए जून 2015 में इराक चली गई थी। बताया जा रहा है वह लड़का रूसी हवाई हमलों में रमादी में मारा गया है।