सुषमा की पाक को सीख, जिनके घर शीशे के होते हैं वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते

नई दिल्ली (26 सितंबर): यूएन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि हमने अपने पड़ोसी से बातचीत को लेकर कोई बात नहीं रखी, बल्कि हमने तो दोस्ती का हाथ बढ़ाया था और उसके बदले में हमें उरी व पठानकोट मिला।

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान पर वार करते हुए कहा कि मैं अपने पड़ोसी देश को बताना चाहती हूं कि जिसके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ कश्मीर का मुद्दा उठाते हैं, लेकिन उनको देखना होगा कि बलूचिस्तान में क्या हो रहा है। उन्होंने कहा कि वह कहते हैं कि हम बातचीत के लिए शर्त रखते हैं, पर हम आपको बता दें कि हमारे प्रधानमंत्री वहां बिना बताए जाते हैं। मैं खुद वहां गई और हम उन्हें ईद की बधाई देते थे तो हमने क्या शर्त रखी।

विदेश मंत्री ने साफ लफ्जों में कहा कि आतंकियों के पास पैसे और हथियार कहां से आते हैं, इस बारे में हमें सोचना होगा। कुछ देश ऐसे हैं जो बोते हैं तो आतंकवाद और पालते हैं तो आतंकवाद। जिन आतंकियों पर संयुक्त राष्‍ट्र ने पाबंदी लगाई हुई है, लेकिन दुनिया में ऐसे भी देश हैं जहां पर वह सरेआम तकरीर करते हैं। उन्होंने यूएन से मांग की कि ऐसे देशों पर लगाम लगनी चाहिए। अगर यह देश आतंकवाद पर दुनिया का साथ नहीं देते तो उन्हें अलग-थलग कर देना चाहिए।

वीडियो: [embed]https://www.youtube.com/watch?v=BGU3J_tZzBk[/embed]