पेरिस जलवायु समझौता: सुषमा का ट्रंप को जवाब, डील के पीछे पैसे का लालच नहीं

नई दिल्ली ( 5 जून ): मोदी सरकार के 3 साल पूरे होने पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस में अपने मंत्रालय के कार्यों का लेखा-जोखा पेश किया। सुषमा स्वराज ने यूपीए के अंतिम 3 साल और मोदी सरकार के 3 साल के कार्यकाल की तुलना करते हुए दावा किया कि उनकी सरकार ने विदेशी फ्रंट से लेकर घरेलू मोर्चे तक शानदार काम किया।


उन्होंने कहा कि पेरिस समझौते से अलग होते वक्त अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत विरुद्ध टिप्पणी को गलत बताते हुए सुषमा ने कहा कि भारत ने किसी लालच या दबाव में पैरिस समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए थे और हम इसका हिस्सा बने रहेंगे।


सुषमा स्वराज ने पत्रकारों के सवाल पर एच-1बी वीजा, पैरिस समझौते पर ट्रंप की भारत विरोधी टिप्पणी पर भी जवाब दिया। सुषमा ने कहा, 'ओबामा के कार्यकाल के दौरान जिस तेजी से संबंध बढ़ रहे थे उसी तेजी से ट्रंप के कार्यकाल में भी बढ़ रहे हैं। लगातार हमारे और उनके नेता संपर्क में हैं। ट्रंप प्रशासन भारत और अमेरिका के संबंधों को पारस्परिक लाभ का संबंध मान रहा है। एच-1बी वीजा के बारे में एक बात साफ कर दूं कि अभी तक स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है।'


ट्रंप के बयान पर सुषमा ने कहा, 'भारत ने पेरिस समझौते पर किसी के दबाव से हस्ताक्षर नहीं किया था। हमारी पर्यावरण के प्रति प्रतिबद्धता के लिए हमने हस्ताक्षर किया। यह आज की प्रतिबद्धता नहीं है। हमारी प्रतिबदद्धता 5000 साल की है। यह भारतीय सांस्कृतिक धरोहर है। इसलिए कोई कहे कि दबाव या पैसे के लिए हस्ताक्षर किए तो मैं ये आरोप खारिज करती हूं। भारत पेरिस समझौते का हिस्सा बना रहेगा।'