पाक महिला ने सुषमा को कहा 'मां', 'आजादी की खुशी' में मांगी मदद


नई दिल्ली (14 अगस्त):
नापाक पाकिस्तान को कब होश आएगा कहना मुश्किल है। पाकिस्तान आज स्वतंत्रता दिवस मना है। भारत के खिलाफ रोज नए-नए साजिश रचता है। लेकिन उसके नागरिकों का हाल बेलाह। वहां के नागरिक मदद के लिए भारत की ओर आशा भरी नजरों से देखते हैं। यहां के लोगों को अल्लाह और मसीहा करते हैं। लेकिन इससे पाकिस्तान की हुकुमरान, सेना और खुफिया एजेंसी ISI को कोई फर्क नहीं पड़ता। जाहिर है पाक हुकुमरान, सेना और खुफिया एजेंसी को अपने जनता की नहीं अपनी दुकानदारी और सत्ता की चिंता है।

पाकिस्तान की कैंसर पीड़ित महिला फैजा तनवीर नाम की एक महीला ने ने ट्विटर पर सुषमा को अपनी 'मां' जैसा बताते हुए भारत को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी और वीजा देने की गुहार लगाई। जवाब में सुषमा ने बधाई स्वीकार करते हुए फैजा को मेडिकल वीजा देने का ऐलान किया है। मुंह के कैंसर से पीड़ित फैजा ने रविवार शाम अपने ट्वीट में सुषमा को संबोधित करते हुए लिखा, 'मैम आप मेरे लिए मां ही हैं, प्लीज मैम मुझे मेडिकल वीजा दे दें, इस 70वीं आजादी के साल की खुशी में मेरी मदद कर दें धन्यवाद।' इसके बाद रात करीब 11 बजे सुषमा ने फैजा को मेडिकल वीजा दिए जाने के फैसले की जानकारी ट्विटर पर ही दी। उन्होंने लिखा, 'भारत के स्वतंत्रता दिवस पर आपकी शुभकामनाओं के लिए धन्यवाद। हम आपको भारत में इलाज के लिए वीजा दे रहे हैं। 

आपको बता दें कि फैजा ने पहले भी वीजा के लिए आवेदन किया था, लेकिन इसके लिए सभी नियमों का पालन नहीं किया गया था, इसीलिए भारतीय दूतावास ने फैजा का आवेदन खारिज कर दिया था। इसके बाद पाकिस्तानी मीडिया ने इस मामले को जोर-शोर से उछाला और भारत पर अमानवीय होने का आरोप लगाया था। इसके जवाब में पिछले महीने सुषमा ने इस पूरे मामले में पाकिस्तान के विदेश मंत्री सरताज अजीज की भूमिका पर भी सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, 'मैं समझ नहीं पा रही हूं कि अपने ही देश के नागरिकों के मेडिकल वीजा के लिए अपनी अनुशंसा देने में सरताज अजीज हिचक क्यों रहे हैं।'