सुषमा के अखिलेश को ट्वीट के बाद विदेशी बहू को मिला इंसाफ

आगरा (11 जुलाई): आगरा में एक विदेशी बहू अपनी सास के खिलाफ घर से बाहर भूख हड़ताल कर रही थी। बहू ने इल्‍जाम लगाया था कि सास दहेज मांग रही है और चूंकि वो दहेज नहीं लाई है इसलिए उसे घर में घुसने नहीं दे रही है।

जब यह मामला विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज के सामने आया तो उन्होंने सूबे के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से विदेशी बहू की मदद करने को कहा, जिसके बाद सास और ननद के खिलाफ एफआईआर के आदेश हो गए। अब सुषमा स्‍वराज और अखिलेश यादव द्वारा हस्‍तक्षेप किए जाने के बाद विदेशी महिला परिवार के साथ एक हो गई है।

ओल्‍गा एफिमेनकोवा ने बताया कि वो अपनी सास के घर के बाहर शनिवार से ही भूख हड़ताल पर बैठी थी। ओल्‍गा का कहना था कि उसकी सास दहेज की मांग कर रही है जो वो लेकर नहीं आई है। उसके पति विक्रम और उसकी 3 साल की बेटी को भी घर में घुसने नहीं दिया जा रहा था।

ऐसे हुई दोनों की मुलाकात: ओल्‍गा ने मास्‍को की रशियन स्‍टेट यूनिवर्सिटी फॉर ह्यूमैनिटीज से चाइनीज फिलॉसफी में पोस्‍ट ग्रेजुएशन किया है। उनका इरादा कंफ्यूसियनिज्‍म में डॉक्‍टरेट करने का था लेकिन छुट्टियों में वो गोवा आईं जहां एक बीच पर उनकी मुलाकात एक रेस्‍त्रां चलाने वाले विक्रांत से हो गई। ओल्‍का और विक्रांत की मेल मुलाकात होने लगी और वो साथ-साथ गोवा घूमने लगे। मुलाकात मोहब्‍बत में बदली और फिर शादी में।