सुषमा ने कहा- नेपाल छोट भाई, ओली बोले- भारत-चीन दोनों से फायदा लेंगे

नई दिल्ली (23 फरवरी): मधेसी आंदोलन से संबंधों में जमी बर्फ के पिघलने के बीच जहां भारत ने खुद को नेपाल का बड़ा भाई कहा और नेपाल के साथ सांस्कृतिक-ऐतिहासिक संबंधों की दुहाई देते हुए नेपाल को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है वहीं नेपाल के प्रधानमंत्री ने इंडियन काउंसिल ऑफ वर्ल्ड अफेयर को संबोधित करते हुए कहा कि नेपाल भारत और चीन दोनों ही पड़ोसियों से लाभ लेना चाहता है।'काठमाण्डुपोस्ट डॉट ईकांतिपुर डॉट कॉम' में छपी रिपोर्ट में इशारा किया गया है कि भारत की यात्रा रे बाद ओली को चीन की यात्रा पर जाना है। इसलिए उन्होंने इस तरह का बयान दिया है।

गौरतलब है कि पूर्ववर्ती सरकारों के विपरीत ओली सरकार का झुकाव चीन के प्रति ज्यादा है। हाल ही में मधेसियों की नाकेबंदी के दौरान ओली ने एक विशेष प्रतिनिधि मण्डल चीन भेजकर मदद भी मांगी थी। हालांकि भारतीय  विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दोहराया है कि भारत हमेशा ही अपने पड़ोसियों की मदद करेगा और कभी भी परेशानियों का स्रोत नहीं बनेगा। सुषमा ने अपनी बात रखने के लिए दोनों देशों के बरसों पुराने संबंधों पर जोर दिया और नये संविधान को लागू करने के लिए बार-बार नेपाली राजीतिक नेतत्व और प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की सराहना की। नेपाली प्रधानमंत्री ने भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और ऊर्जा मंत्री पियूष गोयल से भी मुलाकात की।