सुशीला कार्की होंगी नेपाल की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश

नई दिल्ली (14 मार्च): नेपाल में पहली महिला राष्ट्रपति के बाद अब देश की चीफ जस्टिस का पद पर भी महिला आसीन होने वाली हैं। नेपाल की  जुडीशियल काउंलिस ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के पद के लिए सुशीला कार्की के नाम की सिफारिश की है। राष्ट्रपति से स्वीकृति मिलते ही कार्की देश की पहली महिला मुख्य न्यायाधीश बन जाएंगी।

न्यायिक परिषद की सचिव कृष्णा गिरि ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश कल्याण श्रेष्ठा सेवानिवृत्त हो रहे हैं इसलिए परिषद ने सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में सुप्रीम कोर्ट की जज कार्की के नाम की सिफारिश करने का फैसला किया है। न्यायाधीश कल्याण श्रेष्ठा 13 अप्रैल को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। पारंपरिक रूप से सेवानिवृत होने से एक महीने पहले से मुख्य न्यायाधीश एक महीने के अवकाश पर चले जाते हैं।

कार्की का नामांकन नेपाल के इतिहास में मील के पत्थर के रूप में माना जा रहा है। पिछले वर्ष नेपाल में विद्या देवी भंडारी को राष्ट्रपति और ओंसारी घारती को संसद का अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। कार्की को न्यायपालिका में भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त न करने वाले के रूप में जाना जाता है। 1952 में विराटनगर में जन्मी कार्की नेपाल बार एसोसिएशन की सिफारिश पर एक अस्थायी न्यायाधीश के रूप में शीर्ष अदालत में शामिल हुई थी। उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, भारत से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की है और त्रिभुवन विश्वविद्यालय से लॉ पास किया है।