सूरत के शक्ति ज्वेलर्स पर IT का शिकंजा, नोटबंदी के दौरान करोड़ों के हेराफेरी का आरोप

सूरत (3 फरवरी): नोटबंदी के दौरान भारी तादाद में कालेधन के कुबरों ने अपनी काली कमाई को सफेद करने की कोशिशें की। कालेधन के इन नटवरलालों ने जहां बड़े पैमाने पर अपनी ब्लैक मनी को सोने में खपाने की कोशिश की वहीं गलत तरीके से इसे बैंकों में जमा करवाया। अब ऐसे लोगों पर सरकार और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अपनी नजरे टेढ़ी कर ली है।

इसी कड़ी में सरकार और आयकर विभाग ने नोटबंदी के दौरान काले को सोने के जरिए सफेद करने वाले ज्वेलर्स पर भी शिकंजा कस दिया है। ऐसे ही ज्वेलर्स में एक है सूरत का शक्ति ज्वेलर्स। आयकर विभाग को आशंका है कि शक्ति ज्वेलर्स ने नोटबंदी के दौरान गलत तरीके से सोना बेचकर जमकर काली कमाई की है। 

शक्ति ज्वेलर्स के अलग-अलग खाते में 100 रुपये से भी ज्यादा जमा कराए गए। अब आयकर विभाग शक्ति ज्वेलर्स के खिलाफ सर्च अभियान चला रही है। आशंका जताई जा रही है कि शक्ति ज्वेलर्स ने नोटबंदी के दौरान कई करोड़ की हेराफेरी की है।