40,000000000 का मालिक निकला यह चायवाला

भूपेंद्र सिंह, सूरत (17 दिसंबर): सूरत का एक चाय वाला 400 करोड़ का मालिक है। ये खुलासा तब हुआ जब नोटबंदी के बीच आयकर विभाग ने इस चाय वाले के यहां छापा मारा। छापेमारी के बाद इतनी बड़ी दौलत देखकर आयकर विभाग के अधिकारियों को होश उड़ गए।

आयकर विभाग ने किशोर भजीयावाला के 8 बैंक लॉकरों पर छापा मारा, जिसमें

- करीब ढाई करोड़ के गहने

- 13 किलो सोना

- 180 किलो चांदी

- करीब 1 करोड़ नकद मिले हैं, जिसमें 90 लाख के नए नोट हैं

इसके साथ ही 5, 10 और 50 के नोट भी मिले हैं। इसके अलावा 4.50 लाख के किसान विकास पत्र पाये गये हैं। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उनके पास कई दस्तावेज 

मिले हैं, जिनके बारे में आयकर के अधिकार उनसे पूछताछ कर रहे हैं। छापेमारी के दौरान मिले दस्तावेजों के मुताबिक भजियावाला सूद का कारोबारी भी है। चाय और भजियावाले के पास कुल 30 बैंकों में खाते हैं। ये खाते पीपल्स, बीओबी और एचडीएपफसी में हैं। बताया जा रहा है कि नोटबंदी बाद किशोर ने अपने अकाउंट में अचानक डेढ़ करोड़ रुपए जमा कर दिए। इसके बाद से ही वो आयकर विभाग की नजरों में आ गया।

आयकर विभाग जब उसके ठिकानों पर पहुंचा तो चौंकाने वाले सच सामने आए। अभी इस बारे में और भी खुलासे हो सकते हैं। जांच में पता चला है कि ज़्यादातर राशि चेक के जरिए एक बैंक से दूसरे बैंक खातों में भेजी गई। आयकर के अधिकारी लगातार इस शख्स के पूछताछ कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि किशोर चाय वाला 31 साल पहले सूरत आया था और बहुत जल्द वो स्थानीय तौर पर मशहूर हो गया।

चाय बेचने से इसने अपने कारोबार की शुरूआत की। शुरू में ये चवन्नी की चाय बेचता था, इसके बाद धीरे-धीरे सोने के व्यापार में आया और फिर उसके संबंध रसूखदार लोगों से हो गए। जिसमें राजनीतिक लोग भी शामिल हैं। एक रिपोर्टर के मुताबिक वो नोटबंदी के बाद 15 प्रतिशत की कमीशन पर वो पुराने नोट बदल रहा था, जिसकी जानकारी आयकर विभाग को मिली। गुप्ता सूचना के आधार पर जब आयकर के अधिकारियों ने छापा मारा तो हैरान रह गए। अब तक 8 लॉकर खोले जा चुके हैं। कुछ और ठिकानों पर सर्च भी चल रहा है, जिससे कुछ और खुलासे हो सकते हैं।