GST के खिलाफ कपड़ा व्यापारियों का प्रदर्शन जारी, अबतक करोड़ों का हो चुका है नुकसान

दीपक दुबे, सूरत (16 जुलाई): एशिया की सबसे बड़ी टेक्सटाइल्स मार्केट सूरत में पिछले कई हफ्तों से तालाबंदी की स्थिति है। GST के विरोध में यहां के टेक्सलाइल्स व्यापारी हड़ताल पर हैं और कामकाज ठप है। GST हटाने की मांग को लेकर शहर की कपड़ा संस्था दी न्यू सुपर क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन, दी क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन एवं साड़ी विक्रेता संघ ने अपना कारोबार पूरी तरह से बंद रखा।


यहां हर दिन तकरीबन एक करोड़ रुपए का कारोबार होता है। शहर में छोटी से बड़ी करीब 1 हजार से अधिक दुकानें हैं। इनमें से सबसे ज्यादा साड़ियों की हैं। आम दिनों में साड़ी का कारोबार एक दिन में शहर में 20 से 25 लाख का होता है। इसमें थोक व फुटकर व्यवसाय शामिल है। इसी तरह कपड़े का भी लाखों का व्यापार होता है। आसपास के जिलों के भी कई व्यापारी रतलाम में आकर खरीदी करते हैं।


सूरत में कपड़ा व्यापारियों की हड़ताल का असर शहर के कपड़ा बाजार पर भी पड़ा है। इसमें खासकर साड़ी विक्रेताओं को परेशानी का सामना करना पड़ा है। सूरत के व्यापारियों की हड़ताल के कारण साड़ियों का नया स्टॉक नहीं आ पाया है। दुकानों पर जो था वह भी खत्म होने का आ गया है। 20 दिन में करोड़ों रुपए का नुकसान साड़ी विक्रेताओं को हुआ है। व्यापार भी पूरी तरह से ठंडा पड़ा है।