SC के फैसले पर बोले शाह, मुस्लिम महिलाओं के लिए समानता के नए युग की शुरुआत

नई दिल्ली ( 22 अगस्त ): तीन तलाक के मुद्दे पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने एक साथ तीन तलाक को खत्म कर दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि केंद्र सरकार 6 महीने के अंदर संसद में इसको लेकर कानून बनाए। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पीड़ित महिलाओं के हक में आए फैसले का स्वागत है। शाह ने कहा कि आज से देश की मुस्लिम महिलाओं के लिए स्वाभिमान पूर्ण और समानता के एक नए युग की शुरुआत हुई हैं। 

अमित शाह ने कहा कि यह फैसला किसी की जय या पराजय का नहीं है। यह मुस्लिम महिलाओं के समानता के अधिकार और मूलभूत संवैधानिक अधिकार की विजय है। उन्होंने कहा कि संसार के बहुत से देशों में भी तीन तलाक का कानून अस्तित्व में नहीं है। 

अमित शाह ने कहा कि देश की सर्वोच्च अदालत ने तीन तलाक को गैरसंवैधानिक घोषित कर देश की करोड़ों मुस्लिम महिलाओं को समानता एवं आत्मसम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया है। मैं अपनी अधिकारों के लिए लड़ रही सभी पीड़ित महिलाओं के हक में आए इस फैसले का स्वागत करता हूं और उनका अभिनंदन करता हूं। 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मैं, पीएम मोदी और भाजपा सरकार को मुस्लिम महिलाओं के पक्ष को विवेकपूर्ण और न्यायपूर्ण तरीके से सर्वोच्च अदालत के सामने रखने के लिए धन्यबाद देता हूं।