वेनेजुएला की सुप्रीम कोर्ट पर ग्रेनेड से हमला

नई दिल्ली(28 जून): वेनेजुएला की सुप्रीम कोर्ट के ऊपर ग्रनेड फेंककर हमला किया। राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने इसे आतंकवादी हमला करार दिया है।

- स्टेट टीवी से बात करते हुए मादुरो ने कहा कि सुरक्षाबल इस हमले में शामिल लोगों की तलाश में जुटे हैं। मालूम हो कि वेनेजुएला में पिछले 3 महीने से राष्ट्रपति मादुरो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। उनकी अपनी सरकार में भी कई लोग उनका विरोध कर रहे हैं। अप्रैल से चल रहे विरोध प्रदर्शनों में अब तक कम से कम 75 लोगों की मौत हो गई है।

- खबरों के मुताबिक, कोर्ट के ऊपर जो ग्रनेड फेंका गया उसमें विस्फोट नहीं हुआ। मादुरो ने बताया कि यही हेलिकॉप्टर आंतरिक मंत्रालय की इमारत के ऊपर भी उड़ान भरता नजर आया था।

- सरकार का कहना है कि ऑस्कर पेरेज नाम के एक सैनिक अधिकारी ने हेलिकॉप्टर को अपने कब्जे में किया और फिर उसे शहर के ऊपर उड़ाने लगा। वेनेजुएला की सुप्रीम कोर्ट मादुरो सरकार की समर्थक है। मादुरो के विरोधी कोर्ट से काफी नफरत करते हैं और यह पिछले कुछ समय से विरोधियों के निशाने पर है।

- मादुरो 30 जुलाई को एक विशेष संविधान सभा के गठन के लिए मतदान करवाने की कोशिश कर रहे हैं। उनका कहना है कि यह संविधान सभा राष्ट्रीय चार्टर को दोबारा लिखने का काम करेगी। साथ ही, यह संविधान सभा विरोधी गुट के नियंत्रण वाली कांग्रेस सहित बाकी सभी संस्थाओं की जगह भी लेगी। इससे पहले मादुरो ने चेतावनी दी थी कि अगर विरोधी हिंसा का प्रयोग कर उनकी समाजवादी सरकार को हटाते हैं, तो ऐसी स्थिति में वह अपने समर्थकों के साथ मिलकर हथियार उठा लेंगे।

- मादुरो ने कहा, 'मैं दुनिया को बता देता हूं कि अगर वेनिज्वेला अराजकता और हिंसा में डूबा और हमारी सरकार गिरी, तो हम इसका सामना करेंगे। हम कभी हार नहीं मानेंगे। जो चीज मतदान से नहीं हो सकती, वह हम हथियारों के सहारे पूरा करेंगे। हम अपने देश को हथियारों की मदद से आजाद कराएंगे।'