ऐतिहासिकः हाईकोर्ट जजके खिलाफ अवमानना की सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

नई दिल्ली (7 फरवरी): सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में पहली बार सात जजों की बेंच हाईकोर्ट के वर्तमान जज के खिलाफ अदालत की अवमानना के मामले की सुनवाई करेगी। बुधवार को इस मामले की सुनवाई होगी। मामले में कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है।

सुप्रीम कोर्ट में कोलकाता हाईकोर्ट के जज जस्टिस सीएस करनन के खिलाफ अवमानना की सुनवाई होगी। जस्टिस करनन ने कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर कई जजों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए जांच की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने इसे अवमानना मानकर सुनवाई करने का फैसला किया है।

जस्टिस करनन पहले भी विवादों में रहे हैं, जब उन्होंने मद्रास हाईकोर्ट में रहते हुए अपने ही चीफ जस्टिस के खिलाफ आदेश जारी किए थे। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई के कोलेजियम के उन्हें मद्रास से कोलकाता हाईकोर्ट ट्रांसफर करने के फैसले पर खुद ही स्टे कर दिया था।

प्रधानमंत्री को लिखी चिट्ठी जस्टिस करनन ने 23 जनवरी 2017 को प्रधानमंत्री को लिखी गई चिट्ठी में कहा है कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार कम हुआ है लेकिन न्यायपालिका में मनमाने और बिना डर के भ्रष्टाचार हो रहा है। इसकी किसी एजेंसी से जांच होनी चाहिए। चिट्ठी में सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के वर्तमान और पूर्व 20 जजों के नाम भी लिखे गए हैं।