BREAKING: SC का झटका, अब भारत में नहीं बिकेंगे बीएस-3 वाहन

नई दिल्ली (29 मार्च): वाहन कंपनियों को सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा झटका देते हुए भारत चरण-तीन वाहनों की बिक्री पर एक अप्रैल से प्रतिबंध लगा दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने भारत चरण-तीन (बीएस-तीन) उत्सर्जन मानकों वाले वाहनों की बिक्री और पंजीकरण पर एक अप्रैल से रोक लगाने का फैसला सुनाया है। अब सिर्फ भारत चरण-चार उत्सर्जन मानक वाले वाहन ही एक अप्रैल से बिकेंगे।


न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर तथा न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने इस मामले में फैसला सुनाया। हालांकि वाहन

विनिर्माताओं के संगठन सियाम की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने पीठ से कहा कि वाहन कंपनियों को बीएस-तीन वाहनों के स्टॉक को निकालने के लिए करीब एक साल का समय चाहिए। ज्यादातर स्टॉक सात से आठ महीने में निकल जाएगा।


- इनमें 671308 दोपहिया वाहन, 40048 तिपहिया, 96724 व्यावसायिक वाहन और 16198 कारें हैं।

- ऑटो कंपनियों ने पीठ से गुहार लगाई कि उन्हें छह-सात महीने का वक्त दिया जाए, वे अपने स्टॉक को निकाल लेंगे।

- इन वाहनों को हटाने का काम धीरे-धीरे होना चाहिए, क्योंकि वर्ष 2010 से मार्च 2017 तक 41 वाहन कंपनियों ने 13 करोड़ बीएस-तीन वाहनों का विनिर्माण किया है।

- फिलहाल वाहन कंपनियों के पास ऐसे लाखों वाहन स्टॉक में हैं।