केंद्र से सुप्रीम कोर्ट का सवाल, 'गुवाहाटी के मंदिर से गायब करोड़ों का खजाना कहां गया?'

नई दिल्ली (6 मई): असम में करीब ढाई साल पहले गायब हुए 300 करोड़ के सोने को खोजने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को इस मामले की सुनवाई हुई। कोर्ट ने केंद्र, असम सरकार और राज्य के डीजीपी को नोटिस जारी कर 6 हफ्ते में जवाब मांगा है। यह मामला गुवाहाटी के एक मंदिर से करीब 300 करोड़ रूपये, 300 किलोग्राम सोना और कुछ अन्य सामान कथित तौर पर गायब हो जाने को लेकर दायर किया गया। जिसमें सीबीआई जांच की मांग से जुड़ी याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र से जवाब मांगा है। प्रधान न्यायाधीश टी. एस. ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र और असम सरकार को नोटिस जारी किया है।

नोटिस में छह हफ्ते के अंदर जवाब मांगा गया है। पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अतिरिक्त सॉलीसिटर जनरल मनिंदर सिंह से कहा था कि इस मामले में अदालत का सहयोग करें और कहा कि याचिका में कुछ सनसनीखेज खुलासे किए गए हैं।

याचिका सेना के पूर्व कर्मी मनोज कुमार कौशल ने दायर की थी और दावा किया कि मई 2014 में उन्हें सूचना मिली कि गुवाहाटी में दिसपुर हवाई अड्डे के पास चाय बागान स्थित काली मंदिर में करीब 300 करोड़ रूपये नकदी, 300 किलोग्राम सोना और दो एके 47 राइफल थीं। उन्होंने दावा किया था कि उस चाय बगान का मालिक मृदुल भट्टाचार्य दूसरे चाय बगान मालिकों से धन इकट्ठा करता था और इसे उल्फा को देता था और वह बर्मा से सोने की तस्करी में भी संलिप्त था।

*सांकेतिक तस्वीर