Blog single photo

मनोज तिवारी के सीलिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी को ये राहत सीलिंग मामले में दी है। बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को पर सीलिंग तोड़ने का आरोप है

प्रभाकर मिश्रा, न्यूज 24, नई दिल्ली (22 नवंबर): दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी को ये राहत सीलिंग मामले में दी है। बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को पर सीलिंग तोड़ने का आरोप है। कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए मनोज तिवारी के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने से इंकार कर दिया। कोर्ट ने कहा कि है कि उन्हें सांसद द्वारा की गई कोर्ट की अवमानना नहीं दिखी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सांसद रहते हुए मनोज तिवारी ने सही नहीं किया। उनका रवैया सही नहीं था। बीजेपी चाहे तो कार्रवाई कर सकती है।

इससे पहले जस्टिस मदन बी. लोकुर की अध्यक्षता वाली बैंच ने मामले में दलीलें सुनने के बाद 30 अक्टूबर को अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था। केस की सुनवाई के  दौरान मनोज तिवारी ने अदालत से अधिकार प्राप्त मॉनिटरिंग कमेटी पर आरोप लगाया था कि वह सीलिंग के मुद्दे पर दिल्ली के लोगों को आतंकित कर रही है। हालांकि, समिति ने दावा किया कि वह (तिवारी) अदालत को राजनीतिक अखाड़ा बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मॉनिटरिंग कमेटी द्वारा दाखिल रिपोर्ट पर संज्ञान लेने के बाद बीजेपी सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ 19 सितंबर को अवमानना नोटिस जारी किया था। रिपोर्ट में आरोप लगाया गया था कि भाजपा नेता ने जानबूझकर परिसर की सील तोड़ी है। वहीं, तिवारी ने कोर्ट के समक्ष दलील दी कि कमेटी ने अपने अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन किया और यहां अनधिकृत कॉलोनियों में सीलिंग अभियान चलाया गया, जो कानून के तहत संरक्षण प्राप्त हैं। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले अपनी 2006 की मॉनिटरिंग कमेटी को बहाल करने का आदेश दिया था ताकि दिल्ली में अनधिकृत ढांचों की पहचान की जा सके और उन्हें सील किया जा सके। इस कमेटी का गठन 24 मार्च 2006 को किया गया था।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...

Tags :

NEXT STORY
Top