बिल्डरों से परेशान लोगों को लिए खुशखबरी, कोर्ट ने कहा- कंपनी डूबे या मरे पैसे दे

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली (6 सितंबर): खरीददारों की शिकायत के बाद सुपरटेक को सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाई है, जो ग्राहकों के लिए किसी खुशखरी से कम नहीं है। कोर्ट ने कहा कि हमें मतलब नहीं कि सुपरटेक डूब या मरे, लेकिन उसने जो पैसा ग्राहकों से लिया है वह हर हाल में लौटाना होगा।

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक को आदेश दिया कि 17 ख़रीददारों को कुल जमा मूल धन का लौटाया जा रहा दस फ़ीसद पैसा जो कंपनी 5 जनवरी 2015 से लगातार हर महीने देने का दावा कर रही है वो पूरा किश्‍तों का पैसा चार हफ़्ते में अदा करे और कोर्ट में उसका चार्ट पेश करे।

ये आदेश इसलिए आया क्योंकि पैसा वापस मांग रहे ख़रीददारों का आरोप था कि कंपनी की मूल धन का दस फ़ीसदी हर महीने वापस करने की दलील ग़लत है, उन्हें वह रक़म भी समय से नहीं मिलती।