10 दिनों तक मंदिर में बेटे के शव को लेकर बैठी रही एक मां...

नई दिल्ली (5 मई): अंधविश्वास की एक अजीबोगरीब घटना सामने आई है। बताया जा रहा है कि एक मां अपने दो महीने के बच्चे को कपड़े से लपटे दस दिनों तक मंदिर में बैठी रही। बताया जा रहा है कि उसके बूढ़े माता-पिता भी उसके साथ थे। जब पुलिस को जानकारी मिली तब मामले का खुलासा हुआ।

घटना मंदसौर के पशुपतिनाथ मंदिर की है। ज्योति (30) अपने दो महीने के बच्च के साथ मंदिर में कई दिनों से बैठी थी। अचानक मंदिर के कार्ड की नजर उस पर पड़ी, तो उसने कपड़ा हटाने के लिए कहा। कपड़े हटते ही गार्ड की आंखों के सामने अंधेरा छा गया। तेज दुर्गंध आने लगी। शक होने पर उसने पास के पुलिस थाने में सूचना दी। 

पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पूरे मामले का खुलासा किया। ज्योति ने बताया कि उन्हें कुछ लोगों ने बच्चे को भगवान पशुपतिनाश के मंदिर ले जाने की सलाह दी। उनका दावा था कि वीमार बच्चे के प्राण भवगान ही वापस ला सकते हैं। तभी से ज्योति अपने परिवार के साथ मंदिर में आकर बैठ गई।