एयरफोर्स का सुपर हर्क्युलीज विमान हादसे का शिकार, जांच के आदेश

नई दिल्ली(23 फरवरी): चीन से सटे लद्दाख इलाके में भारतीय वायुसेना का मालवाहक विमान C-130J 'सुपर हर्क्युलीज' हादसे का शिकार हो गया।

- विमान उस वक्त खंभे से टकराकर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया, जब लैंडिंग के बाद इसे इसकी तयशुदा जगह पर पहुंचाया जा रहा था। भारतीय वायुसेना ने इस मामले में कोर्ट ऑफ इंक्वॉयरी के आदेश दे दिए हैं।

- खास बात यह है कि विमान को उड़ाने वाला पायलट एयरफोर्स की प्रतिष्ठित टुकड़ी वेल्ड वाइपर्स (Veiled Vipers) का कमांडिंग अफसर था।

-हादसा बीते साल 13 दिसंबर को बेहद ऊंचाई पर स्थित लद्दाख के थॉयस एयरफील्ड पर हुआ। ग्रुप कैप्टन जसवीन सिंह अपने को-पायलट और वेपंस सिस्टम्स ऑपरेटर के साथ रात की उड़ान पर थे।

-इस हादसे की वजह से वायुसेना को बड़ा नुकसान पहुंचा है। अमेरिका से 2.1 बिलियन डॉलर में खरीदे जाने के बाद सेना में फरवरी 2011 में शामिल किए 6 मालवाहक हर्क्युलीज विमानों में से अब चार ही बचे हैं। इससे पहले, मार्च 2014 में एक विमान ट्रेनिंग उड़ान के दौरान हादसे का शिकार हो गया था। हादसा मध्य प्रदेश के ग्वालियर के निकट हुआ, जिसमें पांच वायुसेना कर्मी शहीद हुए थे।