"मर्द के लिए 'वन नाइट स्टैंड' ठीक तो औरत के लिए क्यों नहीं"

नई दिल्ली (2 मई) : एक्ट्रेस सनी लियोनी दुनिया को पीतल का बना ही मानती हैं। लेकिन सोने की बेबीडॉल की तरह वो खुद के दम पर एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में चमकना चाहती हैं। सनी लियोनी की अपकमिंग फिल्म 'वन नाइट स्टैंड' 6  मई को रिलीज हो रही है। इसी फिल्म के थीम पर बात करते हुए सनी ने कहा कि मर्दों के लिए वन नाइट स्टैंड ठीक हो सकता है तो औरतों के लिए क्यों नहीं। ये डबल स्टैंडर्ड क्यों।   

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक सनी ने इंटरव्यू में कहा, "कोई इस पर बात नहीं करना चाहता कि उसने पिछली रात को क्या किया था। आप इसे मानें या ना मानें लेकिन ये हक़ीक़त है। शायद ये शहरी समाज में अधिक होता है। भारत हो या पश्चिम, कोई खुले तौर पर अंतरंग मुलाकात या संबंध पर बात नहीं करना चाहता।"  

सनी ने माना कि सोशल मीडिया की वजह से फिल्में और टीवी अब बोल्ड कंटेंट के लिए अधिक खुल रही हैं। सनी ने कहा, "मैं समझती हूं कि सब कुछ हर एक के लिए उपलब्ध है। भारत बड़ी आबादी वाला देश है, हर एक की वहां तक पहुंच है जिसे वो पसंद करता है। भारत के युवाओं की पहुंच हर चीज़ तक है। वे स्मार्ट हैं और जानना चाहते हैं कि उनके इर्दगिर्द क्या हो रहा है।"

फिल्म 'वन नाइट स्टैंड' के बारे में सनी ने कहा, "शायद टाइटल से लोग समझ रहे हैं कि फिल्म सिर्फ 'वन नाइट स्टैंड' से भरी है और ये हर सीन में होगा। लेकिन ऐसा नहीं है। फिल्म के दो लीड किरदार वन नाइट स्टैंड करते हैं और ये उनका बेस्ट फैसला होता है। हमने इसमें जेंडर इक्वेलिटी को टच किया है। एक मर्द के लिए वन नाइट स्टैंड ठीक होता है तो एक औरत के लिए क्यों नहीं। जब आप सिंगल होते हैं तो आप कुछ करते हैं तो उससे कोई प्रभावित नहीं होता है। लेकिन जब आप किसी रिलेशनशिप में होते हैं तो ये आपके नज़दीकी हर व्यक्ति पर असर डालता है। ये भरोसे की लकीर को तोड़ने जैसा होता है।"

सनी लियोनी ने कहा कि उनका प्रोफेशनलिज्म और अच्छा काम करने की ललक ही एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में चमकते रहने में मदद करेगा।

देखें फिल्म का ट्रेलर-

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=SZW-LQeQsmI[/embed]