मित्तल का ट्रंप से सवाल- भारत में बैन न कर दें FB, वॉट्सऐप ?


नई दिल्ली (29 अप्रैल): राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की अति संरक्षणवाद नीति की दुनियाभर में आलोचना हो रही है। इसी कड़ी में टेलिकॉम सेक्टर के दिग्गज सुनील भारती मित्तल ने ट्रंप प्रशासन की नीतियों को लेकर उनकी आलोचना की है। साथ ही उन्होंने सवाल किया है कि क्या भारत को भी फेसबुक और गूगल को सिर्फ इसलिए 'ना' कर देना चाहिए क्योंकि वो दोनों अमेरिकी कंपनियां हैं।


मित्तल ने कहा कि उन्हें अमेरिकी संरक्षणवाद से बहुत चिंता नहीं हैं क्योंकि उनका बिजनस पूरी तरह 'घरेलू (भारतीय) बाजार' पर आधारित है, लेकिन जब विदेशी कंपनियां भारत में बड़ा मुनाफा कमा रही हों तो भारतीय कामगारों को (अमेरिका जाने से) रोकना बिल्कुल अनुचित है।


उन्होंने कहा, 'आप ऐसी स्थिति में नहीं रह सकते कि एक तरफ तो फेसबुक के 20 करोड़, वॉट्सऐप के 15 करोड़ और गूगल के 10 करोड़ कस्टमर हों... क्या हमें यह कहना चाहिए कि हम फेसबुक और गूगल का भारत में संचालन नहीं चाहते। हमारे पास खुद के ऐप्स हैं।'


मित्तल ने कहा कि उपभोक्ताओं की बड़ी तादाद के मद्देनजर भारत टेक्नॉलजी कंपनियों के लिए बड़ा बाजार है। पिछले कुछ हफ्तों से अमेरिका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश अपने वीजा नियमों को कड़ा करने में जुटे हैं। आशंका है कि इसका उन भारतीय आईटी कंपनियों की लागत पर नकारात्मक असर पड़ सकता है जो इन देशों के वीजा पर वहां के ग्राहकों की सेवा के लिए अपने कर्मचारी भेजते हैं।