दाउद का इंटरव्यू लेना चाहती है 'गुत्थी', पीएम मोदी को लिखा लेटर

नई दिल्ली(23 दिसंबर): कपिल शर्मा के कॉमेडी शो में गुत्थी और डॉ. गुलाटी जैसे किरदार निभाने वाले सुनील ग्रोवर ने प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी को लेटर लिखा है। सुनील ने उनसे रिक्वेस्ट की है कि वो कॉफी पर दाऊद का इंटरव्यू करना चाहते हैं।

- सुनील ने कहा कि हमारे पास हजारों सवाल हैं और हम सुनना चाहते हैं कि मुंबई बम धमाके करने वाला अपने बचाव में क्या कहता है। बता दें कि सुनील ग्रोवर की फिल्म 'कॉफी विद डी' रिलीज होने वाली है, जिसमें वो एक जर्नलिस्ट का किरदार निभा रहे हैं।

- सुनील ग्रोवर ने अपने लेटर का सब्जेक्ट लिखा है, "एक बहुत पुरानी, लेकिन जरूरी मन की बात।'

- लेटर में उन्होंने कहा, "ये एक ऐसे इंसान के बारे में है, जो हमारे पड़ोसी देश में छिपा बैठा है। वो पड़ोसी देश जो कि टेरर एक्सपोर्ट और टेररिस्ट बनाने के लिए जाना जाता है।"

- "एक ऐसा आदमी जिसे 1993 के बाद मुंबई कभी नहीं भूल सकती और ना ही भूलेगी।"

- "दाऊद इब्राहिम नाम का ये शख्स पूरी दुनिया में जो कुछ भी गलत हुआ है, उसका जिम्मेदार है और भारत उसे तब तक नहीं भूल सकता, जब तक उसे दफन नहीं कर दिया जाता।"

- "हम जानते हैं कि रातोंरात उसे भारत लाने की डिमांड बचकानी होगी, क्योंकि इस प्रोसेस में कई फैक्टर और डिप्लोमेटिक पेंच हैं। इसमें वक्त लगेगा।"

- "और, जब सरकार इस काम को पूरा करने की कोशिश कर रही है, हम बस इतना चाहते हैं कि वो लोगों के बीच आए और इंटरव्यू दे।"

- "हम उसके सामने बैठना चाहते हैं और उसे खुद को बचाने की कोशिश करते हुए देखना चाहते हैं। उसके लिए हमारे पास हजारों सवाल हैं, जिनके जवाब उसे उसके घिनौने काम का जिम्मेदार बनाते हैं।"

- "1993 बम ब्लास्ट के पीड़ितों के लिए ये इंसाफ की एक बूंद के समान होगा। जो आज तक उस पीड़ा को भुला नहीं पाए हैं।"

- "हम केवल दुनिया के मोस्ट वांटेड शख्स के साथ एक इंटरव्यू चाहते हैं। एक कॉफी के कप के साथ उससे बातचीत हमारे लिए पर्याप्त है।"

- सुनील ने आगे लिखा, "भारत को खुशहाल और सुरक्षित बनाने की आपकी कोशिशों के लिए हम आपको धन्यवाद देते हैं।"

- "देश की रक्षा के लिए सर्जिकल स्ट्राइक हो या फिर अलग-अलग पॉलिटिकल आइडियोलॉजी के बावजूद सफाई के लिए वो दृढ़ता दिखाना जैसा कि महात्मा गांधीजी ने किया था। उसके लिए शुक्रिया।"

- उन्होंने कहा कि हमें कई दशकों से साफ छवि, साफ मन और साहसी व्यक्ति को सरकार में देखना चाहते थे और वो शख्स बनने के लिए आपका धन्यवाद।

- "जब बात करप्शन और ब्लैकमनी के खिलाफ लड़ाई की हो, तो आपने ये साबित कर दिया कि कोई भी शख्स कानून से ऊपर नहीं है।"