चहल-धोनी को मिली ईनामी राशि पर भड़के सुनील गावस्कर

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 जनवरी): टीम इंडिया ने टेस्ट सीरीज के बाद वनडे में भी कंगारुओं को मात देते हुए 70 साल में पहली बार ऑस्ट्रेलिया को उसकी धरती पर हराया। मेलबर्न में खेले गए इस जीत के हीरो मयंक चहल और महेंद्र सिंह धोनी रहे। लेकिन पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने मेजबान ऑस्ट्रेलिया को इस बात के लिए लताड़ा कि बोर्ड ने भारतीय टीम के ऐतिहासिक सीरीज जीतने के बाद कोई नकद पुरस्कार की घोषणा नहीं की। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी उस राजस्व के हिस्सेदार हैं, जिससे बनाने में मदद करते हैं।

'मैन ऑफ द मैच' युजवेंद्र चहल और 'मैन ऑफ द सीरीज' महेंद्र सिंह धोनी को मैच के बाद 500-500 डॉलर (करीब 35-35 हजार रुपये) दिए गए। टीम को पूर्व बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने महज विजेता ट्रॉफी प्रदान की। गावस्कर ने ‘सोनी सिक्स’ से कहा, ‘500 डालर क्या है, यह शर्मनाक है कि टीम को सिर्फ एक ट्रॉफी मिली। वे (आयोजक) प्रसारण अधिकारों से इतनी राशि अर्जित करते हैं। वे खिलाड़ियों को अच्छी इनामी राशि क्यों नहीं दे सकते? आखिरकार खिलाड़ी ही खेल को इतनी राशि (प्रायोजकों से) दिलाते हैं।’ गावस्कर ने कहा, ‘विम्बलडन चैम्पियनशिप में दी जाने वाली राशि को देखिए।’

आपको बता दें कि भारत ने युजवेंद्र चहल की फिरकी के कमाल के बाद ‘मैच फिनिशर’ महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव के बीच चौथे विकेट के लिए नाबाद 121 रन की भागीदारी से तीसरे और अंतिम वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया को सात विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम की। टेस्ट मैचों की सीरीज जीतकर इतिहास रचने वाली भारतीय टीम ने वनडे सीरीज में भी जीत हासिल की, इससे पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज 1-1 से बराबर रही थी। विराट कोहली की टीम ने इस तरह ऑस्ट्रेलिया में एक भी सीरीज नहीं गंवाई और यह श्रेय हासिल करने वाली वह पहली टीम बन गई।

इसमें 'मैन ऑफ द सीरीज' धोनी रहे, जिन्होंने दूसरे वनडे में भी अंत में छक्का लगाकर मैच में जीत दिलाई और अपने आलोचकों को चुप कराया। ‘मैन आफ द मैच’ लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल (42 रन पर छह विकेट) की फिरकी के जादू से भारत ने आस्ट्रेलिया को 48.4 ओवर में 230 रन पर आउट कर दिया। धोनी ने 114 गेंद खेलते हुए छह चौके की मदद से नाबाद 87 रन की पारी खेली जबकि जाधव ने 57 गेंद में सात चौके से नाबाद 61 रन बनाए।