32 साल पुराने विवाद पर गावस्कर ने किया बड़ा खुलासा

नई दिल्ली(21 मई): महान बल्लेबाज सुनिल गावस्कर ने 32 साल पुराने मैच पर बयान दिया है। गावसकर ने कहा कि कपिल को ड्रॉप करने का फैसला उनके मीटिंग जॉइन करने से पहले ही कर लिया गया था।

एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक गवास्कर ने कहा 1984 की क्रिकेट सीरीज के दौरान इंग्लैंड के खिलाफ कोलकाता टेस्ट के लिए कपिल को टीम से बाहर करने का फैसला चयनकर्ताओं का था, बिल्कुल गलत है। सनी के मुताबिक चयनकर्ताओं ने ऑफ स्पिनर पैंट पोकाक की गेंद पर घटिया स्ट्रोक खेलने के आरोप में कपिल को दंडित किया था लेकिन सच्चाई कुछ और है।

गावसकर ने यह भी कहा कि वह जल्द ही उस सिलेक्टर के नाम का खुलासा करेंगे जिन्होंने कपिल को बाहर करने का फैसला किया था।  क्रिकेट जगत में यह बात काफी प्रचलित है कि इंग्लैंड के खिलाफ दिसंबर 1984 में कोलकाता के ईडन गार्डन्स मैदान पर खेले गए टेस्ट मैच से कपिल देव को बाहर करने के पीछे सुनील गावसकर का हाथ था। गावसकर का यह कहना है कि यह बात पूरी तरह गलत है और कपिल को टीम से बाहर करने में उनकी कोई भूमिका नहीं थी। बता दें भारत को इस सीरीज में 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था। 

गावसकर ने कहा कि कपिल को टीम से बाहर करने का फैसला उनके मीटिंग जॉइन करने से 20 मिनट पहले ही किया जा चुका था। गावसकर ने पूर्व कप्तान स्वर्गीय हनुमंत सिंह के कॉलम का भी जिक्र किया जिसमें उन्होंने कपिल को टीम से बाहर किये जाने के संदर्भ में गावसकर की भूमिका होने से इनकार किया था। हनुमंत सिंह उस समय चयन समिति के सदस्य थे। गावसकर ने कहा कि कोई भी कप्तान अपने बेस्ट प्लेयर और मैच विनर को टीम से बाहर करने का खतरा नहीं उठाएगा और मैं कुछ भी हूं, मगर इतना बेवकूफ तो नहीं हूं।