नक्सलियों का होगा खात्मा! 2 हफ्ते तक रोड नहीं बनाएंगे जवान


रायपुर(30 अप्रैल): सुकमा में हुए ताजा नक्सली हमले के बाद अब बस्तर में अगले दो हफ्तों तक सुरक्षाबलों को सड़क बनवाने के काम में नहीं लगाया जाएगा।


- माओवादियों के साथ हुए मुठभेड़ में CRPF के 25 जवानों के शहीद हो जाने के बाद इस इलाके में ऑल रोड ओपनिंग पार्टी (ROP) का काम फिलहाल रोक देने का फैसला किया गया है।


-  नक्सल ऑपरेशन्स के स्पेशल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस डीएम अवस्थी ने बताया, 'सड़क बनवाने के काम में जवानों की जो ड्यूटी लगाई जाती थी, उसे अगले दो हफ्तों के लिए निलंबित कर दिया गया है। फिलहाल हम नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई पर ध्यान देंगे और सभी जवान इन्हीं ऑपरेशन्स में शामिल रहेंगे।'


- जानकारी के मुताबिक, पूरे बस्तर में रोजाना करीब 5 से 7 हजार सुरक्षाबल सड़क बनवाने में जुटे रहते हैं। पूरे बस्तर में करीब 30,000 जवान तैनात हैं। जिस समय सुकमा में नक्सली हमला हुआ, तब CRPF की 74वीं बटैलियन के जवाब एक निर्माणाधीन सड़क और पुल की सुरक्षा में तैनात थे। जिस समय माओवादियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया, तब वहां करीब 90 के करीब जवान ROP ड्यूटी पर थे।


- उधर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुकमा हमले में CRPF जवानों के मारे जाने की वारदात को केंद्र सरकार ने चुनौती की तरह लिया है। राजनाथ ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमण सिंह ने भी जवानों की शहादत पर शोक जताते हुए कहा कि इस तरह के हमलों का मुकाबला करने के लिए ठोस रणनीति तैयार किए जाने की जरूरत है।