दिसंबर में कई गुना बढ़ जाएगी भारतीय एयरफोर्स की ताकत

नई दिल्ली (7 अगस्त): भारत सुरक्षा के क्षेत्र में एक और मुकाम आगे बढ़ने जा रहा है। सुखोई एसयू-30 लड़ाकू विमान से परमाणु सक्षम ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल दागने के अंतिम परीक्षण दिसंबर में होने का अनुमान है। इस मिसाइल को बगैर किसी लक्ष्य के छोड़ने का एक परीक्षण इसी महीने होना है। 

- भारत और रूस ने मिलकर ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का निर्माण किया है।  - इसके निर्माताओं ने कहा है कि इस मिसाइल से भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। - ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) और प्रबंध निदेशक सुधीर मिश्र ने इसकी जानकारी दी। - उन्होंने कहा- हम इस महीने 24 अगस्त तक एक ड्रॉप परीक्षण करने की उम्मीद कर रहे हैं।  - ड्रॉप परीक्षण से विमान की मिसाइल छोड़ने वाली यंत्रावली का परीक्षण होगा।  - यह परीक्षण राजस्थान के पोखरण फायरिंग रेंज में किया जाएगा।  - इसका अंतिम परीक्षण बंगाल की खाड़ी में नौसेना की सेवा से हटा दिए गए एक पोत पर निशाना साधकर किया जाएगा।