'ये भारतीय मूल की पत्रकार चाहती थी कि अपनी ही सुसाइड स्टोरी का फोकस बने'

नई दिल्ली (8 जून) :  कनाडा में भारतीय मूल की पत्रकार की मौत की स्वतंत्र जांच की मांग की गई है। रवीना औलख नाम की ये पत्रकार कनाडा के सर्वाधिक सर्कुलेशन वाले अखबार 'टोरंटो स्टार'  से जुड़ी थीं।

42 वर्षीय रवीना औलख ने 28 मई को कथित तौर पर खुदकुशी कर ली थी। लेकिन ये मामला कुछ दिन बाद ही सार्वजनिक तौर पर सामने आया। रवीना जिस 'टोरंटो स्टार'  में काम करती थीं, उसकी संपादक कैथी इंग्लिश ने अखबार में एक लेख में लिखा है कि रवीना ने 'मरने से कुछ ही पहले'  न्यूज़रूम में कुछ लोगों को  ईमेल भेजे थे जिसमें उन्होंने अखबार के ही स्टाफ को लेकर 'आरोप और खुलासे' किए थे।  

इंग्लिश ने लिखा- "आखिरी चीज़ जो यह अवार्ड विजेता ग्लोबल एनवायरमेंट रिपोर्टर करना चाहती थी वो थी कि अपनी खुदकुशी और उसके आफ्टर इफैक्ट वाली स्टोरी का खुद फोकस बने।"  इंग्लिश के मुताबिक रवीना ने साफ तौर पर अखबार को लिखा था कि उसको लेकर श्रद्धांजलि वाला संदेश नहीं प्रकाशित किया जाए।   

इंग्लिंश ने बुधवार को प्रकाशित लेख में लिखा है- "इन ईमेल्स से पता चलता है कि रवीना और सीनियर मैनेजर जोन फिलसन, जो कुछ अर्से से रिलेशनशिप में थे, का हाल में ही ब्रेकअप हुआ। ऐसे में रिपोर्टर रवीना, जिनका दिल टूटा हुआ था, उन्होंने फिलसन और उनकी बॉस मैनेजिंग एडिटर जेन डेवेनपोर्ट के बीच अवैध संबंध के आरोप लगाए।"

फिलसन अब अखबार के साथ नहीं है। वहीं जब तक एडिटर्स आंतरिक जांच पूरी नहीं करते तब तक डेवेनपोर्ट न्यूजरूम की ज़िम्मेदारी से अलग हो गई हैं।  

इस बीच, स्टार के कर्मचारियों की नुमाइंदगी करने वाली यूनियन लोकल 87-एम ने इस दुखद घटना की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की है। यूनियन ने कंपनी को मांगपत्र भेजकर कहा है कि पारदर्शिता के लिए न्यूज़रूम ट्रेजडी में तीसरे पक्ष से जांच कराई जानी चाहिए।

रवीना भारत और इसके आस-पास के देशों की रिपोर्टिंग में माहिर थीं।