ब्रिटेन के दूसरे सबसे बड़े शॉपिंग मॉल में हमले का सच जानकर हैरान रह गए लोग

नई दिल्ली (10 मई): ब्रिटेन के मैनचेस्टर में दूसरे सबसे बड़े शॉपिंग मॉल में सोमवार आधी रात को अचानक एक धमाका हुआ। धमाके की आवाज़ सुनते ही सैकड़ो लोग चीखने चिल्लाने लगे। इसी दौरान जमकर गोलीबारी और धमाकों की आवाज गूंजने लगी। मौजूद लोग दुकानों और रेस्त्रां के अंदर छिपने गए। जो जहां था वहीं जमीन पर लेट गया। कुछ ही देर में एंटी टेरर पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। ब्लास्ट और क्रॉस फायरिंग के बीच फ्लोर पर कई लोग खून से लथपथ पड़े थे। लेकिन थोड़ी देर में ही पूरा माजरा समझ आ गया। दरअसल, ये एक असली हमला ना होकर एक 'मॉक अटैक ड्रिल' था।

रिपोर्ट के मुताबिक, फ्रांस और बेल्जियम स्टाइल के आतंकी हमले रोकने के लिए ब्रिटेन में आतंक-विरोधी पुलिस ने एक मॉक ड्रिल किया। इसके लिए ब्रिटेन के दूसरे सबसे बड़े मॉल 'ट्रेफॉर्ड सेंटर' को चुना गया। इसके लिए आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के अंदाज में एक अटैक के दौरान सैकड़ों वॉलिंटियर्स को भी शामिल किया गया था। ज्यादा वॉलिटिंयर्स फेक शॉपर्स बने थे। पुलिस के दर्जनों टॉप अफसरों भी ड्रिल के दौरान मौजूद थे। 

पुलिस ने शॉपिंग मॉल के स्टाफ, फायर सर्विस और नॉर्थ वेस्ट एम्बुलेंस सर्विस को असिस्ट किया। पुलिस अफसरों ने बताया कि शॉपिंग मॉल को कोई खतरा नहीं है। बस हमें पब्लिक के बीच ड्रिल करने के लिए ऐसे प्लेस की जरूरत थी। इस एक्सरसाइज की प्लानिंग करीब 5 महीने से चल रही थी। 

इस ड्रिल का एक वीडियो भी आया है। आप भी देखिए-

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=FbWxLpl5CJc[/embed]