क्राइम शो का ऐंकर निकला हत्यारा, ऐसे सच्चाई आई सामने, जानें पूरी कहानी

नई दिल्ली ( 17 दिसंबर ): टीवी सीरियल इंडियाज मोस्ट वॉन्टेड से मशहूर हुए सुहैब इलियासी को पत्नी अंजू की हत्या के मामले में दोषी करार दिया है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने यह जानकारी दी है। दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट इस मामले में 20 दिसंबर को सजा का एलान करेगी। बता दें कि 11 जनवरी 2000 को सुहैब के घर पर उनकी पत्नी अंजू की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। मर्डर करने के लिए कैंची का इस्तेमाल किया गया था। बाद में आरोप सुहैब पर ही लगा और उसे 28 मार्च 2000 को गिरफ्तार कर लिया गया।

लेकिन किसी ने सोचा नहीं होगा कि जो शख्स लोगों को एक टीवी शो के जरिए मोस्ट वॉन्टेड अपराधियों से रूबरू करवाता था, वह एक दिन हत्या जैसे संगीन अपराध का दोषी साबित होगा। अदालत 20 दिसंबर को उसे अपराध की सजा सुनाएगी। टीवी पर एक घंटे के शो में अपराध की दास्तां बताने वाले सुहैब के जुर्म की कहानी साबित होने में 17 साल लग गए। 

हत्या का यह केस और उसमें आए ट्विस्ट्स, किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं। कहानी शुरू हुई साल 2000 में। तारीख थी 10 जनवरी। सुहैब की पत्नी अंजू इलयासी को पूर्वी दिल्ली स्थित आवास से जख्मी हालत अस्पताल ले जाया गया था। पुलिस को दिए बयान में सुहैब ने बताया कि दोनों के बीच हुई कहासुनी के बाद अंजू ने आत्महत्या करने के मकसद से खुद को कई बार चाकू मारकर घायल कर लिया है। पुलिस आत्महत्या की थियरी पर आगे बढ़ी। 

मामले में नया मोड़ उस समय आया जब अंजू की बड़ी बहन रश्मि कनाडा से भारत आईं। पेश से टीचर रश्मि ही वह शख्स थीं जिनसे अंजू ने मौत से पहले आखिरी बार बात की थी। अंजू ने रश्मि को सुहैब की हरकतों के बारे में सबकुछ बताया था। रश्मि के बयान ने इस पूरे केस को पलट दिया। रश्मि ने पुलिस को एक डायरी भी दी। उसमें अंजू ने बहुत कुछ लिखा था। इसके बाद आत्महत्या की थियरी संदेह के घेरे में आई गई। अंजू के माता-पिता और पुलिस को भी यकीन हो गया कि सुहैब ने ही अंजू की हत्या की है। 

पुलिस ने नए सिरे से मामले की जांच शुरू की और 28 मार्च को दहेज के लिए हत्या, प्रताड़ना और सबूत मिटाने के जुर्म में इलयासी को गिरफ्तार कर लिया। 

शिकायतकर्ता के वकील सतेंद्र शर्मा ने बताया इलयासी ने अंजू की हत्या को आत्महत्या साबित करने की बहुत कोशिश की, लेकिन जांच के दौरान अपने बयान में लगातार बदलाव करते रहने के चलते वह फंस गया। पुलिस ने मृतक की मां रुकमा सिंह की शिकायत पर शुरुआत में इलयासी के खिलाफ आईपीसी के तहत दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया था।