खत्म होगा 70 साल का सस्पेंस, नेताजी की मौत की मिस्ट्री से उठेगा पर्दा

नई दिल्ली(23 जनवरी): आज आजाद भारत के एक ऐसे राज से पर्दा उठ जाएगा जिसे जानने के लिए देश वासी पिछले 68 साल से बेकरार हैं। सरकार आज एक ऐसा राज खोलेगी जो अबतक पहेली बनी हुई है। वो राज है देश के हीरो नेताजी सुभाष चंद्र बोस के मौत के रहस्य का। सरकार मौत की गुत्थी को सुलझाने के लिए नेताजी से जुड़ी 100 फाइलें आज सार्वजनिक करेगी।

नेताजी के जन्मदिन पर इसी राज से पर्दा उठाने के लिए आज केंद्र सरकार नेताजी से जुड़ी और अब तक गुप्त रखी हुई 100 फाइलों को सार्वजनिक कर रही है। पीएम मोदी खुद इन डिजिटल फाइलों को सार्वजनिक करेंगे। ये फाइलें नेताजी की जिदंगी के आखिरी पल के हर घंटे - मिनट की वो सच्चाई है जिसे अब तक देश वासियों से छिपाया गया है।

नेताजी की मौत कैसे हुई, कब हुई और कहां हुई, नेताजी को मारा गया या फिर नेताजी हादसे का शिकार हुए, नेताजी की मौत प्लेन हादसे में हुई या फिर उनकी मौत की वजह कुछ और है। जापान में हुई मौत या फिर रूस में, इन सभी राज से पर्दा उठ जाएगा।

राज को जानने की खुशी जितना देश वासियों को है उससे कहीं ज्यादा खुद नेताजी के परिवार वालों को भी है, क्योंकि इन लोगों ने नेताजी से जुड़ी फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग लंबे समय से करते रहे हैं। नेताजी से जुड़ी खुफिया फाइलों को सबसे पहले पश्चिम बंगाल में ममता सरकार ने बीते साल सितंबर में सार्वजनिक किया था। 

12 हजार 744 पन्नों वाली 64 फाइलों को पश्चिम बंगाल सरकार ने सार्वजनिक किया था। और आगे की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर डाल दी थी। नेताजी से जुड़ी केंद्र सरकार के पास 135 खुफिया फाइलें हैं। केंद्र सरकार के पास मौजूद फाइलें उनकी मौत से जुड़ी हैं। इन फाइलों में नेताजी के सोवियत रूस, जापान से रिश्तों का ब्योरा है। इनमें हिटलर से नेताजी के रिश्तों का भी ब्योरा है। 

फाइलों के सार्वजनिक होने से पहले नेताजी की मौत से जुड़ी एक खबर भी आई है। ब्रिटिश वेबसाइट बोसफाइल ने दावा किया है कि नेताजी की मौत ताईवान के एयरपोर्ट पर 18 अगस्त 1945 को हुई थी। जिस एयरकराफ्ट से नेताजी जापान जा रहे थे वो क्रैश हो गया था, जिससे नेताजी बुरी तरह जल गए थे। बाद में अस्पताल में उनकी मौत हो गई। इसके लिए वेबसाइट ने सेना और अस्पताल के कुछ दस्तावेज भी पेश किए हैं। अब देखना ये है केंद्र सरकार कि इन फाइलों में कौन सा राज कैद है और इन फाइलों के सार्वजनिक होने के बाद देश की सियासत पर कितना असर पड़ता है।

ब्रिटिश वेबसाइट बोसफाइल ने सुभाष चंद्र बोस की प्लेन हादसे में हुई मौत से जुड़ी मिस्ट्री सुलझाने का एक और दावा पेश किया है ....वेबसाइट ने दावा किया है कि हादसे के चश्मदीद का बयान भी उनके पास है जो मौत की गुत्थी को सुलझाने में मदद कर रहा है ...वेबसाइट का ये भी दावा है कि मौत से पहले सुभाष चंद्र बोस ने भारत वासियों को क्या कहा उसका भी सबूत मिल गया है ..