JNU में MPhil के छात्र ने की खुदकुशी

नई दिल्ली(14 मार्च): हैदराबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र और जेएनयू में MPhil के छात्र मुतुकृष्णन ने सोमवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। खुदकुशी की वजह का अभी पता नहीं चल पाया है।

- छात्रों के अनुसार मुतुकृष्णन भी अनुसूचित जाति से थे और वह रोहित वेमुला की मौत के बाद हुए आंदोलन में सक्रिय रहते थे। वह जेएनयू में MPhil कर रहे थे और तमिलनाडु के सलेम के रहने वाले थे।

- घटना पर दुख जताते हुए 'जॉइंट ऐक्शन कमिटी फॉर सोशल जस्टिस' के एक सदस्य ने बताया, 'मुतुकृष्णन दलित आंदोलनों में सक्रिय रहते थे। हम इस घटना के बाद बेहद हैरान हैं। वह बहुत अच्छा लिखते थे और अच्छे स्कॉलर थे। उन्होंने पिछले साल रोहित वेमुला की मां पर बहुत अच्छा आलेख लिखा था।'

- मुतुकृष्णन की मौत की खबर मिलते ही उनके फेसबुक प्रोफाइल पर दोनों विश्वविद्यालयों के छात्रों के मेसेज आने लगे। मुतुकृष्णन ने अपने फेसबुक पर लास्ट पोस्ट लिखा था, 'अगर समानता नहीं है तो कुछ भी नहीं है। MPhil और पीएचडी एडमिशन में कोई बराबरी नहीं है। वाइवा में बराबरी नहीं है, केवल समानता का ढोंग होता है। प्रशासनिक भवन में छात्रों को प्रदर्शन नहीं करने दिया जाता है। हासिए के लोगों के लिए शिक्षा की बराबरी नहीं है।'