News

स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को देखने प्रतिदिन आते है 15000 से ज्यादा पर्यटक, स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी को छोड़ा पीछे

गुजरात में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (statue of unity) को रोजाना देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या अमेरिका के 133 साल पुराने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी (statue of liberty) के पर्यटकों से ज्यादा हो गई है। गुजरात स्थित इस स्मारक को देखने औसतन 15000 से अधिक पर्यटक रोज पहुंच रहे हैं।

statue of unity

Photo: Google

न्यूज 24, नई दिल्ली (7 दिसंबर): गुजरात (gujrat) में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (statue of unity) को रोजाना देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या अमेरिका के 133 साल पुराने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी (statue of liberty) के पर्यटकों से ज्यादा हो गई है। गुजरात स्थित इस स्मारक को देखने औसतन 15000 से अधिक पर्यटक रोज पहुंच रहे हैं। सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड ने एक बयान में कहा है, ''पहली नवंबर, 2018 से 31 अक्टूबर, 2019 तक पहले साल में रोजाना आने वाले पर्यटकों की संख्या में औसतन 74 फीसदी वृद्धि हुई है और अब दूसरे साल के पहले महीने में पर्यटकों की संख्या औसतन 15036 पर्यटक प्रतिदिन हो गयी है।

यह प्रतिमा गुजरात (gujrat) में केवड़िया कॉलोनी में नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध के समीप है। भारतीय मूर्तिकार राम वी सुतार ने इसका डिजायन तैयार किया था। पहली बार वर्ष 2010 में इस परियोजना की घोषणा की गयी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 अक्टूबर, 2018 को उसका अनावरण किया था।

बयान में कहा गया है, ''सप्ताहांत के दिनों में यह 22,430 हो गयी है। अमेरिका के न्यूयार्क में स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी (statue of liberty)  को देखने रोजाना 10000 पर्यटक पहुंचते हैं। स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (statue of unity) देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा है। यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है।

सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड ने इस स्मारक के पर्यटकों की संख्या में वृद्धि का श्रेय जंगल सफारी, बच्चों के न्यूट्रीशन पार्क, कैक्टस गार्डन, बटरफ्लाई गार्डन, एकता नर्सरी, नदी राफ्टिंग, बोटिंग आदि जेसे नये पर्यटक आकर्षणों को दिया है। उसने कहा, '' इन अतिरिक्त पर्यटक आकर्षणों से नवंबर, 2019 में पर्यटकों की रोजाना संख्या में उछाल आया। उसने यह भी कहा कि इस साल 30 नवंबर तक केवडिया में 30,90,723 पर्यटक पहुंचे और 85.57 करोड़ रूपये का राजस्व मिला।

इसमें कोई संदेह नहीं कि दरों में परिवर्तन से कीमतें बढ़ेंगी। ऐसे में पिछले कुछ वर्षों से महंगाई पर लगी लगाम ढीली पड़ सकती है। इसी के मद्देनजर कहा जा रहा है कि जीएसटी काउंसिल संभवतः टैक्स फ्री वस्तुओं के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं करेगी, बल्कि न्यूनतम टैक्स स्लैब बदलकर ही ज्यादा-से-ज्यादा भरपाई करने की कोशिश होगी। सरकारी अधिकारियों का मानना है कि केंद्र सरकार अगले हफ्ते जीएसटी में प्रस्तावित बदलाव पर महामंथन करेगी। अगर प्रस्ताव स्वीकार किए जाते हैं तो टैक्स रेवेन्यू में वृद्धि तो होगी ही, जीएसटी तीन दरों तक सिमट भी जाएगी।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top