कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में आई भारी कमी

नई दिल्ली (18 जुलाई): केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर में 2016 के मुकाबले जुलाई 2017 तक पत्थरबाजी में कमी आई है। लोकसभा में अपने लिखित जवाब में गृह मंत्रालय ने जानकारी दी कि अलग-अलग घटनाओं में इस साल हुई पत्थरबाजी की घटनाओं में भारी कमी हुई है। इस साल पत्थरबाजी की कुल 664 घटनाएं (9 जुलाई तक) हुई हैं। इस दौरान 21 आम आदमी मारे गए और 107 आम नागरिक घायल भी हुए हैं वहीं सुरक्षा बल 1073 की संख्या में इस कानून व्यवस्था की घटना को रोकने के दौरान घायल हुए हैं।

इसके अलावा गृह मंत्रालय ने लोकसभा में कहा कि इस साल 9 जुलाई तक 172 आतंकवादी घटनाएं जम्मू कश्मीर में हुई हैं। इस हमले में देश के 38 जवान शहीद हुए वहीं आतंकी हमलों में 12 आम नागरिक मारे गए हैं। साथ ही 95 आतंकी मारे गए हैं। आपको बता दें कि 2016 में कुल 322 आतंकी घटनाएं हुई थीं।

आपको बता दें कि अपने लिखित जवाब में गृह मंत्रालय ने जवाब दिया है कि 2016 में 2808 पत्थरबाजी की घटनाएं की घटनाएं हुई थीं। पिछले साल 8 जुलाई को बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद लगातार तीन महीनों में सबसे ज्यादा कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाएं हुईं जिसमें हजारों की संख्या में जवान घायल हुए। इस साल अब तक जो गृह मंत्रालय के पास जानकारी है उसके मुताबिक पत्थरबाजी की 664 घटनाएं हुई हैं जिसमें 1073 सुरक्षा बलों के जवान घायल हुए हैं।