वैज्ञानिक स्टीवन हॉकिन्स ने दी चेतावनी, होगा धरती का अंत

नई दिल्ली ( 22 जून ): मशहूर वैज्ञानिक स्टीवन हॉकिन्स ने एक बार फिर चेतावनी दी है। स्टीफन ने कहा है कि अगर इंसानों को अपना अस्तित्व बचाना है तो उन्हें धरती छोड़ कर किसी अन्य ग्रह पर जाना होगा। उन्हें अपने आवास के लिए अब कोई और आसरा ढ़ूंढ़ना होगा। इसके साथ-साथ हॉकिन्स ने ये भी बातया कि वो एक ऐसा स्पेसक्राफ्ट तैयार कर रहे हैं जिसकी स्पीड लाइट की स्पीड का पांचवां हिस्सा होगा। यह अंतरिक्षयान बेहद ही कम वक्त में धरती के सबसे पास के तारे तक पहुंच सकेगा, जहां से वो उसकी तस्वीरें धरती तक भेज सकेगा।


हॉकिन्स के इस अंतरिक्षयान का नाम 'स्टार चिप' रखा गया है। इस स्पेसक्राफ्ट का जैसा नाम है इसका आकार भी वैसा ही होगा। यह स्पेसक्राफ्ट साइज में कुछ सेंटीमीटर का होगा और वजन कुछ ग्राम में। इसकी स्पीड 10 करोड़ मील प्रतिघंटे की होगी। इसे चलने के लिए जरूरी ऊर्जा धरती पर मौजूद किसी सिस्टम से लेजर रे के द्वारा दी जाएगी।


इस क्राफ्ट की जानकारी देते हुए हॉकिन्स ने बताया कि इसे मंगल ग्रह पर पहुंचने में एक घंटे से भी कम वक्त लगेगा। वहीं उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए बताया कि जिस स्पेसक्राफ्ट को 1977 में धरती से छोड़ा गया था उसे पीछे करने में इसे सिर्फ एक हफ्ते का वक्त लगेगा। सौरमंडल के सबसे नजदीकी सिस्टम अल्फा सेंटोरी तक पहुंचने में इसे सिर्फ 20 साल का वक्त लगेगा।


इस का मुख्य उद्देश्य इंसानों के लिए जीने लायक कोई दूसरा जगह ढूंढना है। अल्फा सेंटोरी तक पहुंच कर ये मशीन वहां मौजूद ग्रहों की जानकारी लेजर बीम के जरिए धरती पर भेजेगा। नॉर्वे में चल रहे स्टारमस फेस्टीवल में बोलते हुए उन्होंने फिर से चेतावनी दी कि 'अगर इंसानों को अपना अस्तीत्व बचाना है तो इसे धरती जैसा कोई और ग्रह ढूंढना होगा और वहां बसना होगा।