कर्नाटक के स्वामी बने रहेंगे कुमार?, आज हो सकता है फ्लोर टेस्ट

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(22 जुलाई): कर्नाटक में अभी सियासी संकट जारी है, बहुमत साबित करने से पहले कांग्रेस (जेडीएस) और बीजेपी एड़ी से चोटी तक जोर लगा रहे हैं। सत्ताधारी गठबंधन(कांग्रेस-जेडीएस) ने पार्टी से नाराज हुए विधायकों को मनाने के लिए पूरे जोर लगा दिए हैं। वहीं बीजेपी के नेता बिल्कुल आश्वस्त नजर आ रहे हैं कि बहुमत परीक्षण होता है तो कांग्रेस-जेडी(एस) सरकार गिर जाएगी। विधानसभा में सोमवार को बहुमत परीक्षण होने की संभावना भी है।  इसलिए कर्नाटक की सियासत का आज महत्वपूर्ण दिन माना जा रहा है। अब देखना होगा कि क्या कुमार स्वामी राज्य की सत्ता बचाने के लिए कौन सा दांव पेच अपनाएंगे

कितनी है सदन में सदस्यों संख्या

स्पीकर और मनोनीत सदस्यों को मिलाकर सदन की कुल संख्या 225 है। इसमें से 17 सदस्यों के सदन में शामिल नहीं होने की संभावना है। 17 में से 12 कांग्रेस के, 3 जेडी(एस) के विधायक हैं और 2 कांग्रेसी विधायक अस्पताल में भर्ती हैं। इस तरह अब सदन की संख्या 208 रह जाती है। बहुमत साबित करने के लिए 105 वोटों की जरूरत होगी।

क्या कहते हैं आंकड़े 

मौजूदा स्थिति देखें तो कांग्रेस-जेडी(एस) कैंप में 66 कांग्रेस, 34 जेडी(एस) और एक बीएसपी सदस्य मिलाकर कुल संख्या 101 है। उधर, विपक्षी खेमे में अकेले बीजेपी के विधायकों की संख्या 105 है और उसे निर्दलीय विधायकों का साथ भी मिला है जिससे विपक्ष की कुल संख्या 107 हो जाती है। हालांकि, अगर निर्दलीय विधायक आर शंकर को बीजेपी के साथ बैठने की अनुमति नहीं मिलती है तो वे शायद सदन में आएं ही न।

वोटिंग के बाद सरकार गिरने की उम्मीद

अगर मौजूदा गतिरोध जारी रहता है तो सरकार गिर सकती है। बता दें कि 15 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं और दो निर्दलीय बीजेपी को समर्थन दे चुके हैं। अगर सुप्रीम कोर्ट कांग्रेस-जेडी(एस) की विप जारी करने को लेकर की गई याचिकाओं पर फैसला टाल देता है, तो विश्वास मत होने पर कुमारस्वामी सरकार गिर सकती है।-बिना वोटिंग सीएम का इस्तीफा ऐसा भी हो सकता है कि हार सामने देखकर कुमारस्वामी बिना वोटिंग हुए खुद इस्तीफा दे दें और बीजेपी सरकार बना ले।मुंबई से लेकर अस्पताल तक में विधायक

कांग्रेस के के सुधाकर, एमटीबी नागराज, एसटी सोमशेखर, बसवराज बैराती, मुनिरत्ना, बीसी पाटिल, प्रतापगौड़ा पाटिल, महेश कुमतल्ली, रमेश झारकीहोली, शिवराम हेब्बर और जेडी(एस) के के गोपालय्या, एच विश्वनाथ और केसी नारायणगौड़ा मुंबई में हैं। आनंद सिंह और रोशन बेग इस्तीफा तो दे चुके हैं लेकिन वे अभी बागी नहीं हैं। दो निर्दलीय एच नागेश और आर शंकर भी सरकार के साथ नहीं दिख रहे हैं। वहीं, श्रीमंत पाटिल और बी नागेंद्र अस्पताल में भर्ती हैं।