अदालत का बड़ा फैसला: गाय के बछड़े को मारने के मामले में 10 साल की सजा, इतना लगाया जुर्माना

court

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(8 जुलाई):  पहली बार किसी गाय के बछड़े को मारने के मामले में अदालत ने कारावास की सजा और जुर्माना लगाने का फैसला सुनाया है। पूरा मामला गुजरात के राजकोट जिला का है, जहां गाय के एक बछड़े को मारने के दोषी को 10 साल कारावास की सजा सुनाई और एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया। अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायधीश एच. के. दवे की अदालत ने शनिवार को सलीम मकरानी को गुजरात पशु संरक्षण अधिनियम 2017 के तहत सजा सुनाई।

इस संबंध में इसी साल जनवरी में सत्तार कोलिया की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी, जिसमें उसने सलीम पर बछड़ा चुराने और उसे मारकर अपनी बेटी के शादी समारोह में परोसने का आरोप लगाया था। सलीम को दोषी ठहराए जाने और सजा सुनाने से पहले नव संशोधित अधिनियम के तहत गवाहों की गवाही और फरेंसिक रिपोर्ट पर विचार किया गया। 

अधिकारियों ने कहा कि नव संशोधित अधिनियम के तहत यह पहली सजा हो सकती है।अधिनियम में गोमांस के परिवहन, बिक्री और रख-रखाव के लिए सात से 10 साल कारावास की सजा का प्रावधान है। पहले ऐसे मामलों में अधिकतम तीन साल कारावास की सजा का प्रावधान था। संशोधित अधिनियम के अनुसार गोमांस के परिवहन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों को स्थायी रूप से जब्त किया जा सकता है।